'All Eyes on Rafah'

‘All Eyes on Rafah’ यह नारा सोशल मीडिया पर बहुत तेजी से प्रचलित हो रहा है और इसकी प्रमुख कारण इजराइल और फिलिस्तीन के बीच हो रहे तनाव की भयावह स्थिति है। राफाह शहर के उस हमले के बाद, जिसमें 45 से अधिक फिलिस्तीनियों की मौत हो गई, लोगों की सहानुभूति और आंतरराष्ट्रीय समुदाय का संज्ञान बढ़ा है। इस हमले के बाद, अनेक लोगों ने सोशल मीडिया पर अपनी आपत्ति और चिंता व्यक्त की है, जिससे यह नारा ट्रेंडिंग में आया। इसके अलावा, यह नारा भी बताता है कि दुनिया भर की नजरें इस संघर्ष पर हैं और लोगों को इस मुद्दे पर ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता है।

क्या है मामला

बता दें कि दक्षिणी गाजा शहर राफा में इजरायली गोलाबारी और हवाई हमलों में कम से कम 45 लोग मारे गए, जिनमें से अधिकांश टेंट में शरण लिए हुए थे। गाजा के चिकित्सकों के अनुसार, रविवार देर रात शुरू किए गए इस हमले में सैकड़ों नागरिक छर्रे और जलने के घाव के साथ घायल हो गए, और विश्व नेताओं ने इसकी निंदा की।

वहीं, शीर्ष संयुक्त राष्ट्र न्यायालय द्वारा अभियान रोकने के आदेश के बावजूद, इजरायली सेना ने सीमावर्ती शहर पर अपना हमला जारी रखा। इजरायल ने जानमाल के नुकसान को “एक दुखद दुर्घटना” बताया और कहा कि अकेले उसके हथियारों से यह घातक आग नहीं लग सकती। इजरायली सेना ने कहा कि हमले में हमास के दो वरिष्ठ आतंकवादी मारे गए।

कब हुई नारा की शुरुआत

‘All Eyes on Rafah’ नारा का प्रारंभिक उपयोग फरवरी में वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (WHO) के डायरेक्टर रिक पीपरकोर्न ने किया था। उन्होंने इजराइली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के निकासी योजना के बाद कहा था कि ‘सभी की निगाहें राफाह पर हैं’। इससे प्रमुखतः उनका उद्देश्य इजराइल के योजनाबद्ध हमलों के खिलाफ आंतरराष्ट्रीय समुदाय को जागरूक करना था।

All Eyes on Rafah का क्या है मतलब

‘All Eyes on Rafah’ नारा उस स्थिति को दर्शाता है जहाँ विश्व की नजरें इजराइल और फिलिस्तीन के बीच हो रहे तनाव पर हैं। यह नारा सामाजिक मीडिया पर फैलाया जा रहा है ताकि लोग इस मुद्दे पर ध्यान केंद्रित करें और इसे गंभीरता से लें। इसके माध्यम से, लोगों को इस संघर्ष की बातचीत में शामिल होने और समाधान के लिए प्रेरित किया जा रहा है। भारत में ईरान के दूतावास ने एक्स पर पोस्ट किया, जिसमें बताया गया कि “ऑल आईज ऑन राफा” का तात्पर्य गाजा के राफा में चल रहे नरसंहार से है, जहां 1.4 मिलियन से अधिक फिलिस्तीनी शरण मांग रहे हैं।

AI से बनाया गया

एक तस्वीर, जो एआई द्वारा बनाई गई प्रतीत होती है, में एक शिविर में टेंट दिखाए गए हैं, जिस पर “ऑल आईज ऑन राफा” लिखा हुआ है। दक्षिणी गाजा का यह क्षेत्र शरणार्थी टेंट शिविरों से भरा हुआ है। यह वाक्यांश राहगीरों से राफा की स्थिति के बारे में जागरूक रहने का आग्रह करता है, जहां 1.4 मिलियन लोगों ने गाजा में अन्य जगहों पर हिंसक लड़ाई से बचने के लिए शरण ली है, क्योंकि इजरायल का आक्रमण जारी है।

वहीं, हैशटैग #AllEyesOnRafah ने TikTok पर 195,000 से अधिक पोस्ट और लाखों व्यूज प्राप्त किए हैं। मंगलवार को, यह Instagram पर लगभग 100,000 पोस्ट के साथ ट्रेंड कर रहा था। इतना ही नहीं, अभिनेता वरुण धवन, एली गोनी, सामंथा रूथ प्रभु और त्रिप्ति डिमरी सहित भारत के प्रभावशाली लोगों और मशहूर हस्तियों ने अपनी इंस्टाग्राम स्टोरीज़ पर “ऑल आइज़ ऑन राफा” ग्राफ़िक्स साझा किए।

MDH and Everest Ban: नेपाल में भी एवरेस्ट और MDH पर रोक, क्या है एथिलीन ऑक्साइड? जानें भारत का रुख

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

मिर्जापुर की सलोनी भाभी नेहा सरगम बनी नेशनल क्रश कौन हैं ट्रेनी IAS ऑफिसर पूजा खेडकर ? जो इस वक़्त विवादों में हैं ? ब्रेड के पैकेट पर लिखी हो ये बातें तो भूलकर भी ना खाएं कौन हैं मिर्जापुर में सलोनी भाभी का किरदार निभाने वाली अभिनेत्री नेहा सरगम फिर युवाओं के दिल पर राज करने आ रही है तृप्ति डिमरी