Frozen shoulder

Frozen shoulder: शरीर में अनेक तरह की तकलीफें समय-समय पर होती रहती है। फ्रोजन शोल्डर (Frozen shoulder) उन तकलीफों में से एक है। जो कंधों की गति में कमी करने के लिए जिम्मेदार है। इससे काफी दर्द भी महसूस होता है। जब कंधा जम जाता है, तो जोड़ चिपक जाता है और उसकी गति सीमित हो जाती है। इससे जोड़ के आसपास सूजन, दर्द और जलन हो सकता है। ये काफ़ी दर्दनाक होता है।

क्या है Frozen shoulder?

फ्रोजन शोल्डर को आयुर्विज्ञान में “अधिचलित ओमोह्यूमेरल जॉइंट” कहा जाता है। इसमें कंधे के जोड़ के आसपास के संवेदनशील क्षेत्र की स्थिति में गठित एक प्रकार की फ्रोजनेस होती है, जिससे शोल्डर की गति में सीमितता होती है और उसमें दर्द और असहजता महसूस होती है।

  • फ्रोजन शोल्डर वह है जो फंस गया है और चलने-फिरने में सीमित हो गया है।
  • फ्रोजन शोल्डर अक्सर कैप्सूल, कंधे के जोड़ के आसपास के ऊतकों की सूजन के कारण होता है।
  • जमे हुए कंधे के निदान के लिए लक्षणों के अन्य कारणों का पता लगाने के लिए शारीरिक परीक्षण और संभावित एक्स-रे या अतिरिक्त परिक्षणों की आवश्यकता होती है।
  • फ्रोज़न शोल्डर के इलाज के लिए आमतौर पर फिजिकल थेरेपी और सूजन-रोधी दवाएँ निर्धारित की जाती हैं।
  • जमे हुए कंधे के इलाज के लिए आमतौर पर सर्जरी का संकेत नहीं दिया जाता है जब तक कि गैर-ऑपरेटिव उपचार गति की सीमा में सुधार करने और दर्द को कम करने में विफल नहीं होते हैं।

यह भी पढ़े: Regular and Cold-Pressed Oil में क्या है अंतर, जानिए क्यों जरूरी है कोल्ड-प्रेस्ड तेल

फ्रोजन शोल्डर के प्रकार

फ्रोजन शोल्डर के विभिन्न प्रकार हो सकते हैं, जिनमें सर्वाधिक सामान्य शामिल हैं:

  1. अधिचलित फ्रोजन शोल्डर (Adhesive Capsulitis): यह सबसे सामान्य प्रकार है, जिसमें कंधे के जोड़ का कैप्सूल (परत) घुम जाता है और स्थिति बदलता है।
  2. अधिचलित शोल्डर अर्थराइटिस (Frozen Shoulder Arthritis): यह प्रकार अर्थराइटिस के कारण होता है, जिसमें शोल्डर जोड़ में सूजन और दर्द होता है।
  3. संधिगत फ्रोजन शोल्डर (Secondary Frozen Shoulder): यह प्रकार दुसरी सेहत संबंधी समस्याओं, जैसे कि डायबीटीज, थायराइड समस्याएं या रीवा संक्रमण के कारण हो सकता है।

कड़े और जमे हुए कंधों में क्या है अंतर

कड़े और जमे हुए कंधे दो अलग-अलग स्थितियों को दर्शाते हैं।

  1. कड़े कंधे (Stiff Shoulders): कड़े कंधे अक्सर शारीरिक गतिशीलता की कमी का परिणाम होते हैं। यह सामान्यतः मांसपेशियों, टेंडन्स, या जोड़ों की समस्याओं के कारण हो सकते हैं। यह अक्सर दर्द, असहजता, और शोल्डर की सामान्य गति में कमी के साथ आता है।
  2. जमे हुए कंधे (Frozen Shoulders): जमे हुए कंधे अधिचलित शोल्डर के रूप में भी जाना जाता है। यह शोल्डर के कैप्सूल का घुमना हो जाता है, जिससे शोल्डर की संवेदनशीलता कम होती है और गति सीमित हो जाती है। इसके साथ, दर्द और असहजता होती हैं, और यह आमतौर पर समय के साथ बढ़ती हैं।

जानें निदान के तरीके

फ्रोजन शोल्डर का निदान करने के लिए डॉक्टर विभिन्न परीक्षणों और जाँचों का उपयोग करते हैं। निम्नलिखित प्रक्रियाएं सम्मिलित हो सकती हैं:

  1. शारीरिक परीक्षण: डॉक्टर शिकायतों का समीक्षण करेंगे और शोल्डर क्षेत्र की गतिशीलता, दर्द, और स्थिति का मूल्यांकन करेंगे।
  2. रेंटजन: एक एक्स-रे जाँच के द्वारा डॉक्टर फ्रोजन शोल्डर के संकेतों को देखेंगे, जैसे कि संघटित कपाल, विलंबित बाजू की चाल, और अनुयायी दर्द।
  3. एमआरआई (MRI): अधिक विस्तृत चित्रण के लिए डॉक्टर एक एमआरआई स्कैन का सुझाव दे सकते हैं, जो शोल्डर क्षेत्र के अंदरीय संरचनाओं की अधिक विस्तृत छवियों को प्रदान करता है।
  4. अन्य परीक्षण: लैब टेस्ट, जैसे कि रक्त परीक्षण, संदिग्ध इंफेक्शन की जाँच करने के लिए किया जा सकता है।

इन परीक्षणों के आधार पर, डॉक्टर आपको फ्रोजन शोल्डर की स्थिति का निदान करेंगे और उपचार की सलाह देंगे।

नोट: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने डॉक्टर से परामर्श लें। “सच्चाई भारत की” इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

यह भी पढ़े: PCOS को कंट्रोल करने के आयुर्वेदिक उपाय, जानें कौन-सी जड़ी-बूटियां आती है काम


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सीने पर ऐसा टैटू बनवाया कि दर्ज हुई FIR, एक पोस्ट शख्स को मुशीबत में डाला इस वजह से हार्दिक पंड्या को नहीं बनाया कप्तान ऑल इंडिया मुस्लिम जमात ने CM योगी के फैसले का किया समर्थन बॉलीवुड छोड़ने के बाद हॉलीवुड में प्रियंका चोपड़ा ने रचा इतिहास ख़त्म हुआ हार्दिक-नताशा का रिश्ता,तलाक की ख़बर से उठा पर्दा, बेटे को लेकर कही ये बात