Himachal flood: Kullu में बादल फटने से एक की मौत, 3 घायलHimachal flood: Kullu में बादल फटने से एक की मौत, 3 घायल

Himachal flood: डीएसपी मुख्यालय राजेश ठाकुर (Rajesh Thakur) ने कहा कि कुल्लू (Kullu) के किआस गांव में बादल फटने से एक व्यक्ति की जान चली गई है, उन्होंने कहा कि सोमवार को बारिश से संबंधित घटना में तीन लोग घायल हो गए और नौ वाहन क्षतिग्रस्त हो गए।

समाचार एजेंसी एएनआई के हवाले से ठाकुर ने कहा, “कुल्लू के किआस गांव में बादल फटने से एक की मौत हो गई, 3 घायल हो गए और 9 वाहन क्षतिग्रस्त हो गए।”

यह भी पढ़ें:- NCB ने नष्ट की 2,400 करोड़ रुपये की दवाइयां, Home Minister Amit Shah ने किया वर्चुअल निरीक्षण

पिछले सप्ताह जारी आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, हिमाचल प्रदेश में बारिश ने पहाड़ी राज्य में बड़े पैमाने पर तबाही मचाई है, जिससे बादल फटने, भूस्खलन और बाढ़ की घटनाएं हुई हैं, जिसमें अब तक 108 लोगों की जान चली गई है।

उत्तर भारत के सभी प्रभावित राज्यों में, हिमाचल प्रदेश सबसे अधिक प्रभावित है, जिसके बाद केंद्रीय गृह मंत्री अमित ने राज्य आपदा प्रतिक्रिया कोष (एसडीआरएफ) के केंद्रीय हिस्से की दूसरी किस्त की अग्रिम राशि ₹180.40 करोड़ जारी करने को मंजूरी दे दी।

हिमाचल प्रदेश में बचाव अभियान के लिए राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) की कुल 11 टीमों को बचाव नौकाओं और अन्य आवश्यक उपकरणों के साथ तैनात किया गया है।

यह भी पढ़ें:- आखिर पुरुषों को क्यों नहीं पसंद बीवी का नौकरी करना ? पढ़िए यह No-Job को लेकर स्पेशल स्टोरी।

इसके अलावा, नागरिक निकासी के लिए 1 PARA SF और 205 आर्मी एविएशन स्क्वाड्रन की एक कॉलम को पांवटा साहिब में तैनात किया गया है। “दो एमआई-17वी5 हेलीकॉप्टरों को निकासी मिशन के लिए तैनात किया गया है।”

हिमाचल प्रदेश में अगले कुछ दिनों तक भारी बारिश जारी रहने की संभावना है, आईएमडी ने रविवार को कई इलाकों के लिए रेड अलर्ट जारी किया है।

मौसम विभाग ने रविवार दोपहर ट्वीट किया, “ऑरेंजअलर्ट: हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में 16 जुलाई और 17 जुलाई के दौरान भारी से बहुत भारी बारिश (115.6 से 204.4 मिमी) होने की संभावना है।”

यह भी पढ़ें:- बहनों का यौन शोषण, एक ने की Suicide की कोशिश, BJP नेता का बेटा आरोपी

आईएमडी शिमला ने कहा, “17 जुलाई तक चंबा, कांगड़ा, सिरमौर, शिमला और कुल्लू जिलों के कुछ वाटरशेड और पड़ोस में फ्लैश फूड का मध्यम से उच्च जोखिम है।”

उत्तर भारत में भारी बारिश के कारण कई भूस्खलन हुए हैं, जिससे सड़कें अवरुद्ध हो गई हैं और कई लोग फंसे हुए हैं। निचले इलाकों में बाढ़ का पानी घुसने के कारण पिछले कुछ दिनों में एनडीआरएफ टीमों और अन्य आपदा प्रबंधन कर्मियों ने हजारों लोगों को बचाया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

मिर्जापुर की सलोनी भाभी नेहा सरगम बनी नेशनल क्रश कौन हैं ट्रेनी IAS ऑफिसर पूजा खेडकर ? जो इस वक़्त विवादों में हैं ? ब्रेड के पैकेट पर लिखी हो ये बातें तो भूलकर भी ना खाएं कौन हैं मिर्जापुर में सलोनी भाभी का किरदार निभाने वाली अभिनेत्री नेहा सरगम फिर युवाओं के दिल पर राज करने आ रही है तृप्ति डिमरी