अयोध्या में राम मंदिर (Ram Mandir) के रोचक तथ्य जो आपको जानना जरूरी हैअयोध्या में राम मंदिर (Ram Mandir) के रोचक तथ्य जो आपको जानना जरूरी है

अयोध्या में राम मंदिर (Ram Mandir) का उद्घाटन सोमवार (22 जनवरी) को एक भव्य समारोह में किया गया, जिसमें प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और अन्य गणमान्य व्यक्ति शामिल हुए। इस कार्यक्रम का भारत भर के कई शहरों में सीधा प्रसारण किया गया और भक्तों को भी इसमें वर्चुअली शामिल होने के लिए कहा गया। अभिषेक कार्यक्रम के बाद, मंदिर 23 जनवरी से भक्तों के लिए खुला रहेगा। 9 नवंबर, 2019 को, एक सदी से भी अधिक पुराने एक विवादास्पद मुद्दे का निपटारा करते हुए, भारत के तत्कालीन मुख्य न्यायाधीश (CJI) की अध्यक्षता वाली पांच-न्यायाधीशों की पीठ ने रंजन गोगोई ने मंदिर (Ram Mandir) के निर्माण का मार्ग प्रशस्त किया था और फैसला सुनाया था कि उत्तर प्रदेश के पवित्र शहर में एक मस्जिद के लिए वैकल्पिक पांच एकड़ का भूखंड खोजा जाएगा।

अब जब “प्राण प्रतिष्ठा” समारोह संपन्न हो गया है, तो यहां राम मंदिर के बारे में दिलचस्प बातों पर एक नजर डालते हैं जो आपको जानना आवश्यक है।

अयोध्या राम मंदिर का महत्व
इसे हिंदुओं के सबसे महत्वपूर्ण तीर्थ स्थलों में से एक माना जाता है। अयोध्या को भगवान राम का जन्मस्थान माना जाता है और इसलिए इसे एक पवित्र स्थान माना जाता है।

कब रखी गई थी मंदिर की आधारशिला?
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 5 अगस्त, 2020 को राम मंदिर की आधारशिला रखी।

राम मंदिर का प्रबंधन कौन करता है?
मंदिर के मामलों का प्रबंधन श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट द्वारा किया जाता है। संस्था अपने एक्स हैंडल पर 22 जनवरी के समारोह के बारे में अपडेट पोस्ट करती रही है।

ट्रस्ट की वेबसाइट के अनुसार, सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर केंद्र सरकार द्वारा बनाया गया ट्रस्ट मंदिर के निर्माण की देखरेख भी कर रहा है, जिसका क्षेत्रफल 2.7 एकड़ है।

राम मंदिर के बारे में रोचक तथ्य
श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के अनुसार मंदिर का निर्माण पारंपरिक नागर शैली में किया गया है। इसकी लंबाई (पूर्व-पश्चिम) 380 फीट, चौड़ाई 250 फीट और ऊंचाई 161 फीट है।

Ram Mandir Inauguration: उन राज्यों की सूची जिन्होंने छुट्टियों की घोषणा की है

ट्रस्ट ने एक्स (पूर्व ट्विटर) पर कहा कि मंदिर (Ram Mandir) तीन मंजिला है, जिसकी प्रत्येक मंजिल 20 फीट ऊंची है। इसमें कुल 392 खंभे और 44 दरवाजे हैं। पाँच मंडप या हॉल हैं जिनके नाम नृत्य मंडप, रंग मंडप, सभा मंडप, प्रार्थना और कीर्तन मंडप हैं।

प्रवेश पूर्व से है, और भक्तों को सिंह द्वार से होकर 32 सीढ़ियाँ चढ़नी होंगी। ट्रस्ट ने यह भी कहा कि दिव्यांगों और बुजुर्गों की सुविधा के लिए रैंप और लिफ्ट की भी व्यवस्था है। ट्रस्ट का दावा है कि दिलचस्प बात यह है कि मंदिर में कहीं भी लोहे का इस्तेमाल नहीं किया गया है।

अन्य बुनियादी ढांचे का विवरण
परिसर के चारों कोनों पर सूर्य देवता, देवी भगवती, भगवान गणेश और भगवान शिव को समर्पित चार मंदिर हैं। मां अन्नपूर्णा का मंदिर उत्तरी तरफ है, जबकि हनुमान मंदिर दक्षिणी तरफ है। अयोध्या राम मंदिर (Ram Mandir) की नींव का निर्माण रोलर-कॉम्पैक्ट कंक्रीट (आरसीसी) की 14 मीटर मोटी परत से किया गया है, जो इसे कृत्रिम चट्टान का रूप देता है।

जमीन की नमी से सुरक्षा के लिए ग्रेनाइट का उपयोग करके 21 फुट ऊंचे चबूतरे का निर्माण किया गया है। मंदिर का निर्माण पूरी तरह से स्वदेशी तकनीक का उपयोग करके किया जा रहा है, जिसमें पर्यावरण-जल संरक्षण पर विशेष जोर दिया जाएगा।

Ayodhya: पृथ्वी पर सबसे भाग्यशाली व्यक्ति वो मूर्तिकार जिन्होंने राम लला की मूर्ति बनाई

राम मंदिर निर्माण की लागत
अगर मंदिर में लागत की बात करें तो श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ने अनुमान लगाया था कि 2022 में भव्य राम मंदिर के निर्माण में ₹1,800 करोड़ खर्च होंगे। पिछले साल अक्टूबर में पीटीआई की एक रिपोर्ट में कहा गया था कि ट्रस्ट ने 5 फरवरी, 2020 और 31 मार्च, 2023 के बीच अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण पर 900 करोड़ रुपये खर्च किए।

By Javed

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

मिर्जापुर की सलोनी भाभी नेहा सरगम बनी नेशनल क्रश कौन हैं ट्रेनी IAS ऑफिसर पूजा खेडकर ? जो इस वक़्त विवादों में हैं ? ब्रेड के पैकेट पर लिखी हो ये बातें तो भूलकर भी ना खाएं कौन हैं मिर्जापुर में सलोनी भाभी का किरदार निभाने वाली अभिनेत्री नेहा सरगम फिर युवाओं के दिल पर राज करने आ रही है तृप्ति डिमरी