IVF, Health Ministry, Punjab Government, Reproductive Health, Legal Notice, Balkaur Singh, Charan kaur, Sidhu Moosewala's Parents, IVF Law, ART law,

IVF Law: मशहूर गायक सिधू मूसेवाला की हत्या के लगभग दो साल बाद मूसेवाला के घर बच्चे की किलकारी गुंजी। 17 मार्च को सिधू मूसेवाला की मां, चरण कौर ने एक लड़के को जन्म दिया। जिसका जन्म इन विट्रो फर्टिलाइजेशन (In vitro fertilization-IVF) के माध्यम से गर्भधारण किया था। लेकिन हालात को देखते हुए लगता है कि ये बलकौर सिंह के गले की हड्डी बना हुआ है। 

क्या है IVF के कानून

दरअसल, 2021 का सहायक प्रजनन प्रौद्योगिकी अधिनियम केवल 50 वर्ष से कम उम्र की महिलाओं और 55 वर्ष से कम उम्र के पुरुषों के लिए आईवीएफ और अन्य प्रजनन उपचार की अनुमति देता है। चरण कौर 58 वर्ष की हैं और उनके पति बलकौर सिंह 60 वर्ष के हैं। जो सहायक प्रजनन तकनीक को विनियमित करने वाले कानूनों का उल्लंघन करता प्रतीत होता है।

डाॅक्टरों ने जताया आश्चर्य

इस मामले में अधिनियम का मसौदा तैयार करने में मदद करने वाले डॉ. आरएस शर्मा ने कहा, यह आश्चर्य की बात थी कि उन्होंने IVF के जरिए कैसे इस गर्भावस्था को प्रबंधित किया। क्योंकि यह एआरटी कानून (ART law) का उल्लंघन है। इस पर गौर किया जाना चाहिए। बता दें, बच्चे का जन्म बठिंडा के जिंदल हार्ट इंस्टीट्यूट एंड इनफर्टिलिटी सेंटर (Jindal Heart Institute & Infertility Centre) में हुआ। जन्म की देखरेख करने वाली डॉ. रजनी जिंदल ने कहा कि चरण कौर ने अपने अस्पताल में आईवीएफ नहीं कराया। उन्होंने कहा कि कौर को गर्भावस्था के चौथे महीने में रक्तस्राव की समस्या हुई और प्रसव तक वह अस्पताल की देखरेख में रहीं।

यह भी पढ़े: Ram Mandir Visit: रामलाल के दर्शन कर लगाये प्रियंका ने ‘जय सिया राम’ जयघोष

सरकार ने किया नोटिस जारी

बुधवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने पंजाब सरकार को एक नोटिस भेजकर आईवीएफ प्रक्रिया के बारे में जानकारी मांगी। बठिंडा के जिला स्वास्थ्य विभाग ने उस निजी अस्पताल से रिकॉर्ड सुरक्षित कर लिया है जहां कौर ने जन्म दिया था। जिला स्वास्थ्य विभाग और मूसेवाला के परिवार इस बात पर चुप है कि कौर को भारत में या विदेश में सहायता प्राप्त गर्भावस्था प्रक्रिया मिली या नहीं। कौर के पति बलकौर सिंह ने अधिकारियों पर उत्पीड़न का आरोप लगाया।

इस मामले में सिंह ने फेसबुक पर लिखा, “सरकार अब मुझे परेशान कर रही है, मुझसे अपनी कानूनी स्थिति साबित करने के लिए कह रही है। मैं सीएम (मुख्यमंत्री भगवंत मान) से अनुरोध करना चाहता हूं कि कृपया मुझे इलाज कराने दें, फिर सरकार मुझे जहां भी बुलाएगी मैं आऊंगा।” साथ ही, पंजाब में सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी (आप) ने संघीय सरकार पर अतिशयोक्ति का आरोप लगाया।

इस बात पार्टी ने लिखा, “भाजपा शासित केंद्र सरकार ने चरण सिंह के आईवीएफ उपचार के संबंध में पंजाब सरकार से रिपोर्ट मांगी है। सीएम भगवंत मान हमेशा पंजाबियों की भावनाओं और सम्मान का सम्मान करते हैं, यह केंद्र सरकार है जिसने दस्तावेज मांगे हैं। लेकिन राज्य के एक स्वास्थ्य अधिकारी ने गुमनाम रूप से बोलते हुए कहा कि संघीय सरकार ने केवल जानकारी का अनुरोध किया है, जो देर से गर्भधारण के स्वास्थ्य जोखिमों से बचाने के लिए बनाए गए दिशानिर्देशों के स्पष्ट उल्लंघन के लिए सामान्य है।

यह भी पढ़े: ECI ने सरकारी मैसेज भेजने पर लगाई रोक, कांग्रेस और टीएमसी को आपत्ति

पक्ष-विपक्ष के सभी लोग बोले

विपक्षी कांग्रेस पार्टी के नेता अमरिन्दर सिंह राजा वारिंग ने राज्य सरकार की आलोचना की। वारिंग ने कहा, “पंजाब सरकार द्वारा इस समय आईवीएफ प्रमाणपत्र की मांग करना पूरी तरह से निंदनीय है। क्या इस अवधि के दौरान उन्हें इस तरह की जांच के अधीन करना उचित है? सरकार इंतज़ार क्यों नहीं कर सकती?” 2016 में, एक 72 वर्षीय महिला ने आईवीएफ के माध्यम से बच्चे को जन्म दिया, जिससे अधिक उम्र में गर्भधारण की नैतिकता के बारे में बहस छिड़ गई।

बूढ़े मां-बाप का होना बच्चे के लिए अनुचित

भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) में कार्यरत शर्मा ने कहा, “एक कारण था कि हमने अधिनियम में ऊपरी सीमा लगा दी क्योंकि इतने बूढ़े माता-पिता का होना लंबे समय में बच्चे के लिए अनुचित हो सकता है।”

यह भी पढ़े:  Paytm FASTag: 15 मार्च के बाद टोल शुल्क का भुगतान करें, RBI के निर्देशों

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

मिर्जापुर की सलोनी भाभी नेहा सरगम बनी नेशनल क्रश कौन हैं ट्रेनी IAS ऑफिसर पूजा खेडकर ? जो इस वक़्त विवादों में हैं ? ब्रेड के पैकेट पर लिखी हो ये बातें तो भूलकर भी ना खाएं कौन हैं मिर्जापुर में सलोनी भाभी का किरदार निभाने वाली अभिनेत्री नेहा सरगम फिर युवाओं के दिल पर राज करने आ रही है तृप्ति डिमरी