Lok Sabha Elections 2024, Congress, Gaurav Vallabh, Gaurav Vallabh Resignation, Resignation ,Hinduism, Indian Politics, Resignation Impact, Political Shifts, Congress Party, Hindu Sentiments slogans, Lok Sabha, Election 2024,

Lok Sabha Chunav 2024: तमाम चुवान की तैयारियों के बीच सभी पार्टियों में बदलाव देखने को मिला रहा है। नेता दल बदलते भी दिख रहे है और अपने पसंदीदा जगह से टिकट लेते भी। लेकिन ऐसे में कांग्रेस को एक बड़ा झटका लगते दिख रहा है। लोकसभा चुनाव से कुछ समय पहले ही कांग्रेस के दमदार माने जाने वाले नेता गौरव वल्लभ ने पार्टी से अपना इस्तीफा दे दिया। जिसके बाद कांग्रेस नीरस है।

वरिष्ठ नेताओं और जमीनी स्तर में अंतर

जानकारी के मुताबिक, गौरव वल्लभ ने गुरुवार को पार्टी से अपना इस्तीफा दे दिया। गौरव वल्लभ ने एक्स पर पोस्ट करते हुए लिखा, “मैं कांग्रेस पार्टी के दिशाहीन प्रक्षेपवक्र के साथ सहज महसूस नहीं करता हूं। मैं सनातन विरोधी नारों का समर्थन नहीं कर सकता या हमारे देश के धन सृजनकर्ताओं को बदनाम नहीं कर सकता। इसलिए, मैं सभी पदों से इस्तीफा दे रहा हूं और अपनी प्राथमिक सदस्यता छोड़ रहा हूं…”

यह भी पढ़े: Kejriwal Message: 28 मार्च तक केजरीवाल हिरासत में, संदेश में कहा ‘मैं जल्द बाहर आऊंगा’

अपने त्याग पत्र में, वल्लभ ने कांग्रेस पार्टी के बिगड़ते जमीनी स्तर के संगठन पर चिंता व्यक्त की। जिसके बारे में उनका मानना है कि यह नए भारत की आकांक्षाओं के साथ तालमेल बिठाने में विफल है। उन्होंने अफसोस जताया कि पार्टी की इन आकांक्षाओं को समझने में असमर्थता के कारण वह सत्ता हासिल करने या विपक्ष के रूप में प्रभावी ढंग से कार्य करने में विफल रही है। वल्लभ ने वरिष्ठ नेताओं और जमीनी स्तर के कार्यकर्ताओं के बीच अंतर को पाटने की आवश्यकता पर जोर दिया, जिसे वह राजनीतिक सफलता के लिए महत्वपूर्ण मानते हैं।

कांग्रेस प्रवक्ता के अनुसार, कार्यकर्ताओं और नेताओं के बीच सीधे संचार चैनलों की अनुपस्थिति पार्टी के भीतर सकारात्मक बदलावों को लागू करने की संभावना में बाधा डालती है।

कहा-सनातन विरोधी नारें पार्टी की विश्वसनीयता को करता है खराब

वल्लभ ने जाति आधारित जनगणना जैसे मुद्दों पर विरोधाभासी रुख और पूरे हिंदू समाज के प्रति इसके कथित पूर्वाग्रह का हवाला देते हुए पार्टी की वर्तमान दिशा की आलोचना की। उन्होंने तर्क दिया कि इस तरह का दृष्टिकोण पार्टी की विश्वसनीयता को कम करता है और जनता को एक भ्रामक संदेश भेजता है, जो एक विशिष्ट धार्मिक समूह के प्रति पक्षपात का सुझाव देता है। उनका मानना है कि यह कांग्रेस पार्टी के मूल सिद्धांतों के विपरीत है।

यह भी पढ़े: Delhi Liquor Scam: संजय सिंह की मिली राहत, आखिर कौन-सी शर्तों पर तय हुई जमानत

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सीने पर ऐसा टैटू बनवाया कि दर्ज हुई FIR, एक पोस्ट शख्स को मुशीबत में डाला इस वजह से हार्दिक पंड्या को नहीं बनाया कप्तान ऑल इंडिया मुस्लिम जमात ने CM योगी के फैसले का किया समर्थन बॉलीवुड छोड़ने के बाद हॉलीवुड में प्रियंका चोपड़ा ने रचा इतिहास ख़त्म हुआ हार्दिक-नताशा का रिश्ता,तलाक की ख़बर से उठा पर्दा, बेटे को लेकर कही ये बात