Regular and Cold-Pressed Oil

Regular and Cold-Pressed Oil: शरीर और दिल को स्वस्थ रखने के लिए सही तेल का इस्तेमाल करना जरूरी है। तेल का इस्तेमाल रोजाना सलाद से लेकर स्नैक्स तक, सभी चीज़ों में किया जाता है, इसलिए सही तेल का चुनाव करना बेहद ही जरूरी हो जाता है। एक्सपर्ट कोल्ड प्रेस्ड ऑयल और रेगुलर तेल के बीज का अंतर बताया है।

तेल से पड़ता है दिल पर असर

एक्सपर्ट का कहना है कि स्वस्थ जीवन-शैली को अपनाने के साथ, लोग अपने दिल की बेहतरी के लिए कोल्ड-प्रेस्ड तेलों का चयन कर रहें है। वहीं, रेगुलर ऑइल को छोड़ रहे हैं। अक्सर लोगों को खाना पकाते या खाते समय दो तरह के तेल के बीच अंतर समझने में प्रॉब्लम आती है। ध्यान दें कि दोनों तेलों में अलग-अलग पोषण तत्व, शारीरिक और रासायनिक गुण होते हैं। इसलिए जरूरी से अपने शरीर के मुताबिक तेल का चुनाव करना।

कोल्ड-प्रेस्ड तेलों और नियमित तेलों के बीच में अंतर:

मैन्युफैक्चरिंग प्रोसेस: तेल निकालने की तरीके से उसकी गुणवत्ता और स्वाद पर बहुत फर्क पड़ता है। कोल्ड-प्रेस्ड तेलों को कम तापमन में उसके बीजों को दबा कर तेल निकाला जाता है। आमतौर पर, बीजों को एक बड़े सिलेंडर में रखा जाता है। जहां उसे लगातार घुमाया व कुचला जाता है। जब तक सारा तेल न निकल जाए, इस प्रक्रिया को लगातार किया जाता है। इस तरीके से कोल्ड-प्रेस्ड तेल अपने मूल स्वाद, सुगंध और पोषण को बरकरार रखते हैं। इतना ही नहीं, ये तेल आपके हृदय स्वास्थ्य के साथ आपकी त्वचा के लिए भी फायदेमंद है।

कोलेस्ट्रॉल और ब्लड प्रेशर में है मददगार

बात दें कि कोल्ड-प्रेस्ड तेल में जरूरी फैटी एसिड, एंटीऑक्सिडेंट, विटामिन ई, विटामिन के, विटामिन सी और अन्य चीज़ों से भरपूर होता हैं। जिससे यह अपने पोषक तत्वों और प्राकृतिक रूप को बनाए रखता हैं। इसलिए कोल्ड-प्रेस्ड तेल का खाना सुरक्षित और स्वस्थ माना जाता है। खासकर पुराने बीमारी वाले लोगों के लिए।

यह भी पढ़े:  Times 100 Health List: इन 5 भारतीय की बदौलत आये कई बदलाव, जानें कैंसर,अल्जाइमर और मेंटल हेल्थ में कैसे आ रहा सुधार

हालांकि, कोल्ड-प्रेस्ड तेल खराब कोलेस्ट्रॉल और ब्लड प्रेशर को कम करने में मददगार है। वही, रिफाइंड तेल को खाने से स्ट्रोक और दिल के दौरे का खतरा काफी बढ़ सकता है।

शेल्फ लाइफ कौन है बेहतर

नियमित तेल या रेगुलर तेल को हाइड्रोजनीकरण प्रोसेस से गुजरना पड़ता हैं। जिससे उनके शेल्फ-लाइफ और कपासिटी को बढ़ाने में मदद मिलती है। ये कम हानिकारक केमिकल को मिला कर किया जाता है। दूसरी ओर, कोल्ड-प्रेस्ड तेल अनफ़िल्टर्ड और कम से कम प्रोसेस्ड होते हैं, इसलिए उनकी शेल्फ-लाइफ कम होती है और कपासिटी कम होती है।

किस तेल में खाना पकाने स्वस्थ के सही

कोल्ड-प्रेस्ड तेल का इस्तेमाल उन भोजनों को बनाने में किया जाता है जो कम गर्मी तेल में पक जाये, जबकि हाई-प्रेस्ड का इस्तेमाल उच्च तापमान वाले भोजन को तैयार करने के लिए किया जाता हैं। नियमित या रेगुलर तेल से कोल्ड-प्रेस्ड तेल में स्विच करना मुश्किल और महंगा हो सकता है, लेकिन कुछ छोटे से बदलाव आपके स्वस्थ रखने में मदद कर सकते है।

साथ ही, स्वस्थ दिल के लिए आप कुछ कोल्ड-प्रेस्ड तेल जैसे नारियल का तेल, जैतून का तेल, सूरजमुखी का तेल, मूंगफली का तेल, अलसी का तेल, अखरोट का तेल और बोरेज का तेल को खाने में शामिल कर सकते है।

नोट: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने डॉक्टर से परामर्श लें। “सच्चाई भारत की” इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

यह भी पढ़े: PCOS को कंट्रोल करने के आयुर्वेदिक उपाय, जानें कौन-सी जड़ी-बूटियां आती है काम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

मिर्जापुर की सलोनी भाभी नेहा सरगम बनी नेशनल क्रश कौन हैं ट्रेनी IAS ऑफिसर पूजा खेडकर ? जो इस वक़्त विवादों में हैं ? ब्रेड के पैकेट पर लिखी हो ये बातें तो भूलकर भी ना खाएं कौन हैं मिर्जापुर में सलोनी भाभी का किरदार निभाने वाली अभिनेत्री नेहा सरगम फिर युवाओं के दिल पर राज करने आ रही है तृप्ति डिमरी