Special Story

Special Story: समाज में धर्म और विज्ञान की भूमिका प्रभावशाली है। विज्ञान और धर्म के बीच एक महत्वपूर्ण अंतर यह है कि पहले का संबंध प्राकृतिक दुनिया से है जबकि दूसरे का संबंध प्राकृतिक और अलौकिक दोनों संस्थाओं से है। विज्ञान तथ्यों की उचित प्रमाण एवं प्रमाण सहित व्याख्या करता है। यह हमेशा सवालों के जवाब देने के लिए तार्किक स्पष्टीकरण प्रस्तुत करता है। धर्म लोगों को शक्ति पर निर्भर बनाता है और यह शक्ति प्राकृतिक या अलौकिक हो सकती है। यह हमेशा विश्वासों और विश्वासों पर निर्भर होता है। धर्म के अनुसार सब कुछ अज्ञात शक्ति के प्रभाव से होता है। जबकि विज्ञान सदैव तार्किक तथ्यों एवं प्रमाणों पर निर्भर रहता है। जब धर्म ने विभिन्न संस्कृतियों और परंपराओं के लिए मार्ग प्रशस्त किया, तो विज्ञान ने खोजों के लिए मार्ग प्रशस्त किया।

-प्रियंका सौरभ

धर्म और विज्ञान के बीच संबंध को दुनिया में सबसे अधिक बहस वाले विषयों में से एक माना जा सकता है। विज्ञान और धर्म के बीच संबंधों पर कुछ तर्क संघर्ष पैदा करते हैं, जबकि अन्य सोचते हैं कि यह दो अलग-अलग संस्थाएं हैं जो दो अलग-अलग मानवीय अनुभवों से निपटती हैं। कुछ धार्मिक और वैज्ञानिक संगठनों का कहना है कि धार्मिक आस्था और वैज्ञानिक दृष्टिकोण के बीच इस तरह के टकराव की कोई आवश्यकता नहीं है। धर्म और विज्ञान जटिल सामाजिक विषय हैं जो विभिन्न संस्कृतियों और परंपराओं के अनुसार भिन्न हो सकते हैं। यह लेख हमें विज्ञान और धर्म की विभिन्न अवधारणाओं को देखने देता है और वे एक-दूसरे से कैसे संबंधित हैं। विज्ञान और धर्म के बीच संबंध ‘सद्भाव’, ‘जटिलता’ और संघर्ष की विशेषता है। समाज में व्यक्ति के विचारों को आकार देने में विज्ञान और धर्म की भूमिका महत्वपूर्ण है।

यह भी पढ़ें:- Environment: शुरू होनी चाहिए पर्यावरणीय मुद्दों को मुख्यधारा में लाने की चुनावी प्रथाएं

धर्म मान्यताओं, रीति-रिवाजों और परंपराओं का एक संग्रह है। इसे नियंत्रक शक्ति के प्रति पूजा भी कहा जाता है। धर्म सदैव ईश्वर पर केन्द्रित नहीं हो सकता। यह किसी भी प्रकार की शक्ति के प्रति समर्पण हो सकता है। विज्ञान की भाँति मध्यकाल में धर्म शब्द का भी कोई उचित अर्थ नहीं था। मानवविज्ञानी ईबी टेलर के साहित्यिक कार्यों के माध्यम से इसे अपना वर्तमान उद्देश्य प्राप्त हुआ। उनके बारे में कहा जाता है कि उन्होंने दुनिया भर में धर्म का प्रतिनिधित्व करने के लिए इस शब्द का इस्तेमाल किया था। धर्म किसी समाज और व्यक्ति की गतिविधियों में महत्वपूर्ण योगदान देता है। इसका असर व्यक्ति के शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य पर भी पड़ता है।

विज्ञान को ज्ञान की खोज और अनुप्रयोग तथा प्रयोगों, अवलोकनों और उचित साक्ष्यों के माध्यम से दुनिया को समझने के रूप में परिभाषित किया गया है। पुराने काल में विज्ञान का अर्थ प्राकृतिक दर्शन या प्रयोगात्मक दर्शन था। इसका सटीक सन्दर्भ उन्नीसवीं शताब्दी में आया और प्रयोग किया गया। विलियम व्हीवेल ने वैज्ञानिक शब्द का मानकीकरण उन लोगों के रूप में किया जो विज्ञान के अभ्यासकर्ता हैं। संक्षेप में विज्ञान को संसार और उसके व्यवहार के प्रति जिज्ञासा माना जा सकता है। विज्ञान सदैव एक रहस्य है। प्रत्येक परीक्षा और खोज से विज्ञान में अधिक प्रश्न उत्पन्न होते हैं।

यह भी पढ़ें:- Special Sunday: निजी स्कूल बने किताबों के डीलर तो दुकानदार बने रिटेलर

प्राकृतिक दुनिया, इतिहास, दर्शन और धर्मशास्त्र का विश्लेषण करके विज्ञान और धर्म के बीच संबंध का अध्ययन किया जा सकता है। विज्ञान प्राकृतिक दुनिया की जांच और विश्लेषण करता है, जबकि धर्म आध्यात्मिक या अलौकिक रूप से दुनिया का विश्लेषण करता है। कई वैज्ञानिकों, धर्मशास्त्रियों, दार्शनिकों आदि ने कहा है कि विज्ञान और धर्म के बीच अन्योन्याश्रयता है । यह भी सच है कि धार्मिक तथ्य कई वैज्ञानिक तथ्यों को प्रभावित करते हैं। सबसे अच्छा उदाहरण यह है कि कुछ लोग अभी भी प्राकृतिक प्रक्रिया द्वारा विकास के सिद्धांत को अस्वीकार करते हैं और मानव अस्तित्व की धार्मिक मान्यता में विश्वास करते हैं। विज्ञान और धर्म के बीच संबंधों पर चर्चा एक संघर्ष में समाप्त होती है। जैसा कि पहले ही उल्लेख किया गया है, विज्ञान और धर्म शब्द 19वीं शताब्दी में उभरे और इन्हें किसी व्यक्ति के आंतरिक गुण माना जाता था और प्रथाओं या ज्ञान का संदर्भ नहीं दिया जाता था। हमारी समझ, विचारों और यहां तक कि हमारे भविष्य को आकार देने में धर्म और विज्ञान की अलग-अलग भूमिकाएँ हैं। जब धर्म उस भावना में योगदान देता है जिसे मानव मस्तिष्क नहीं पकड़ सकता, तो विज्ञान मन के असीमित विचारों और प्रयोगों के माध्यम से खोज करता है।

समाज में धर्म और विज्ञान की भूमिका प्रभावशाली है। विज्ञान और धर्म के बीच एक महत्वपूर्ण अंतर यह है कि पहले का संबंध प्राकृतिक दुनिया से है जबकि दूसरे का संबंध प्राकृतिक और अलौकिक दोनों संस्थाओं से है। विज्ञान तथ्यों की उचित प्रमाण एवं प्रमाण सहित व्याख्या करता है। यह हमेशा सवालों के जवाब देने के लिए तार्किक स्पष्टीकरण प्रस्तुत करता है। धर्म लोगों को शक्ति पर निर्भर बनाता है और यह शक्ति प्राकृतिक या अलौकिक हो सकती है। यह हमेशा विश्वासों और विश्वासों पर निर्भर होता है। धर्म के अनुसार सब कुछ अज्ञात शक्ति के प्रभाव से होता है। जबकि विज्ञान सदैव तार्किक तथ्यों एवं प्रमाणों पर निर्भर रहता है। जब धर्म ने विभिन्न संस्कृतियों और परंपराओं के लिए मार्ग प्रशस्त किया, तो विज्ञान ने खोजों के लिए मार्ग प्रशस्त किया।

यह भी पढ़ें:- Special Story: युवा लड़कियों और महिलाओं में बढ़ती आत्मह’त्या’ की घटनाएं

वैज्ञानिक आस्तिक होने का मतलब यह नहीं है कि कोई व्यक्ति आध्यात्मिक नहीं हो सकता। ऐसे कई वैज्ञानिक और धार्मिक लोग हैं जो क्रमशः धर्म और विज्ञान में विश्वास करते हैं। इस बात से कोई इनकार नहीं कर सकता कि विज्ञान और धर्म मानव जीवन के दो आवश्यक पहलू हैं। विज्ञान और धर्म के बीच संबंधों की चर्चा व्यापक है लेकिन अंत में अधूरी रह जायेगी। वास्तव में, हम यह कह सकते हैं कि विज्ञान और धर्म एक ही समय में पूरक और गतिशील दोनों हो सकते हैं। धर्म की तुलना में विज्ञान को अधिक व्यवस्थित और तार्किक माना जाता है।

विज्ञान एक वस्तुनिष्ठ विचार है, जबकि धर्म एक व्यक्तिपरक विचार है। विज्ञान और धर्म अलग-अलग पहलुओं में बहुत करीब से जुड़े हुए हैं। विज्ञान हमेशा अपने कथनों को प्रदर्शित करने के लिए तथ्यों और तर्क पर निर्भर करता है, जबकि धर्म लोगों की आस्था और शक्ति पर निर्भर करता है। विज्ञान किसी उत्तर को हल करने के लिए प्रयोग और अवलोकन विकसित करने पर केंद्रित है। धर्म उन प्रश्नों को संबोधित करता है जिनका उत्तर सटीक डेटा के साथ नहीं दिया जा सकता है। विज्ञान और धर्म को संसार के दो शासक कारक कहा जा सकता है। ‘ विज्ञान और धर्म ‘ वाक्यांश पहली बार 19वीं शताब्दी में एक साथ संरचित किया गया था। ये दोनों शब्द वास्तविकता की अलग-अलग धारणाओं के रूप में उत्पन्न हुए।

प्रियंका सौरभ, रिसर्च स्कॉलर इन पोलिटिकल साइंस, कवयित्री, स्वतंत्र पत्रकार एवं स्तंभकार,

By Javed

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

मिर्जापुर की सलोनी भाभी नेहा सरगम बनी नेशनल क्रश कौन हैं ट्रेनी IAS ऑफिसर पूजा खेडकर ? जो इस वक़्त विवादों में हैं ? ब्रेड के पैकेट पर लिखी हो ये बातें तो भूलकर भी ना खाएं कौन हैं मिर्जापुर में सलोनी भाभी का किरदार निभाने वाली अभिनेत्री नेहा सरगम फिर युवाओं के दिल पर राज करने आ रही है तृप्ति डिमरी