Swelling in Feet

Swelling in Feet: पैरों में सूजन कई बार एक सामान्य समस्या होती है, जिसका सामना अक्सर लोग करते हैं। हालांकि, यह समस्या सामान्य नहीं रह जाती, जब यह बार-बार होने लगे या पैरों में बहुत ज्यादा सूजन रहे। ऐसे में आपके पैरों में दर्द और गड्ढे होने की संभावना रहती हैं। इसलिए ऐसे मामलों को गंभीरता से लेना चाहिए, क्योंकि यह किसी गंभीर बीमारी का संकेत भी हो सकता है। यह स्थिति आमतौर पर ब्लड सर्कुलेशन की कमी के कारण होती है, लेकिन यदि यह समस्या बार-बार होती है तो इसे नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए।

नियमित व्यायाम और सही खानपान होते मददगार

पैरों में सूजन की कई वजहें हो सकती हैं, जैसे कि अधिक बैठना, वायरल इंफेक्शन, विकारित रक्त संचार, गठिया, या अन्य मेडिकल समस्याएं। वही लक्षणों की बात करें तो तनाव, दर्द, या अकड़न जैसी शामिल होते हैं। आमतौर पर पैरों में सूजन को कम करने के लिए हमें पूरे दिन के दौरान पैरों को आराम देना चाहिए। नियमित व्यायाम और सही खानपान भी मददगार होते हैं। लेकिन इन उपायों से अगर काम ना बने तो डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए। जानकारी के अनुसार दवाइयाँ या थैरेपी की सलाह सही मानी जाती है। जो सूजन को कम करने में मदद कर सकती हैं।

यह भी पढ़ें: Rice Water: त्वचा के लिए चावल का पानी सबसे बेहतर, इस तरीके से करें इस्तेमाल

सूजन से हो सकती है ये बीमारी

पैरों में सूजन कई बीमारियों का एक संकेत हो सकता है। ऐसे में सावधानी बरतने की आवश्यकता है। यहां कुछ ऐसी बीमारियाँ हैं जिनके साथ पैरों में सूजन का खतरा हो सकता है।

  1. गठिया: गठिया के रोगी पैरों में सूजन का अनुभव कर सकते हैं। यह अकड़न, दर्द और तनाव का कारण बन सकती है। गठिया (आर्थराइटिस) एक गंभीर आरोग्य समस्या है जो जोड़ों को प्रभावित करती है। इस रोग में जोड़ों के आसपास की ऊतकों में सूजन और जकड़न की समस्या होती है, जिससे पैरों में भी सूजन का अनुभव हो सकता है। इसके अलावा, गठिया के रोगी कई बार दर्द और असहनीयता का सामना कर सकते हैं, जिससे पैरों में सूजन की समस्या और भी बढ़ सकती है।
  2. अस्थमा: अस्थमा के रोगी भी अक्सर पैरों में सूजन का सामना कर सकते हैं। यह एक फेफड़ों की बीमारी है जो वायुमंडल में विशेषाधिक धूल या धुंध के कारण हो सकती है। अस्थमा के रोगी अक्सर श्वास लेने में परेशानी और सूजन का अनुभव कर सकते हैं, जिससे पैरों में सूजन का होना संभव है।
  3. डायबिटीज: डायबिटीज के मरीजों में रक्तचाप और शरीर के अन्य हिस्सों में ऊतकों को प्रभावित करने के कारण पैरों में सूजन की समस्या हो सकती है।
  4. दिल की बीमारी: दिल की बीमारी के कुछ लक्षणों में सूजन भी शामिल है, जिससे पैरों में सूजन की समस्या हो सकती है। दिल की बीमारी, जिसे हृदय रोग कहा जाता है, एक और मुख्य स्वास्थ्य समस्या है जो हार्ट और उसके संबंधित अंगों को प्रभावित करती है।
  5. रक्तचाप की समस्याएँ: ऊँचा रक्तचाप भी पैरों में सूजन का कारण बन सकता है। उच्च रक्तचाप आपके शरीर के अलग-अलग हिस्सों में ऊतकों को प्रभावित कर सकता है, जिससे पैरों में भी सूजन का अनुभव हो सकता है।

नोट: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने डॉक्टर से परामर्श लें। “सच्चाई भारत की” इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

यह भी पढ़ें: Haircare: चमकदार बालों के लिए मेहंदी को इस तरह इस्तेमाल करें, जानें इसके फायदे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

मिर्जापुर की सलोनी भाभी नेहा सरगम बनी नेशनल क्रश कौन हैं ट्रेनी IAS ऑफिसर पूजा खेडकर ? जो इस वक़्त विवादों में हैं ? ब्रेड के पैकेट पर लिखी हो ये बातें तो भूलकर भी ना खाएं कौन हैं मिर्जापुर में सलोनी भाभी का किरदार निभाने वाली अभिनेत्री नेहा सरगम फिर युवाओं के दिल पर राज करने आ रही है तृप्ति डिमरी