Chardham Yatra

Chardham Yatra: उत्तराखंड में चारधाम यात्रा को लेकर कई बड़ा अपडेट सामने आए है। जिसमें 16 मई को ऑफ लाइन रजिस्‍ट्रेशन बंद होने से लेकर मंदिर से 200 मीटर तक मोबाइल प्रतिबंधित रहने तक अपडेट शामिल है। चारधाम यात्रा को लेकर ये रजिस्‍ट्रेशन हरिद्वार और ऋषिकेश में हो रहे थे। साथ ही, मोबाइल प्रतिबंध के लिए मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने इस संबंध में दिशा -निर्देश जारी करते हुए कहा कि नियमों का पालन नहीं करने पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। लेकिन इसके बावजूद श्रद्धालुओं की भारी भीड़ देखने को मिल रही है। वही, भीड़ की वजह से व्यवस्थाएं ध्वस्त हो चुकी हैं।

चारधाम यात्रा में बिगड़े हालात, 10 की मौत

बता दें कि गंगोत्री और यमुनोत्री जाने वाले रास्ते पर 45 किमी. लंबा जाम है। यह जाम से हरिद्वार से आगे बरकोट में है। जहां से सीधा गंगोत्री और यमुनोत्री जाया जाता है। बरकोट से उत्तरकाशी की ओर जाने वाला 30 किमी. का रूट वन-वे है। गंगोत्री और यमुनोत्री की तुलना में केदारनाथ जाने वाले रास्ते पर जाम कम है। मंगलवार को केदारनाथ-बद्रीनाथ में 23 हजार लोगों ने दर्शन किए। इस बीच जाम में फंसे होने की वजह से मंगलवार को 5 लोगों ने दम तोड़ दिया। इन में से तीन लोगों की गाड़ी में ही मौत हो गई। पिछले 4 दिनों में 10 श्रद्धालुओं की मौत हो चुकी है। मरने वाले सभी श्रद्धालुओं की उम्र 50 साल से ज्यादा है। इनमें से कई तो डायबिटीज और ब्लड प्रेशर जैसी गंभीर बीमारियों से पड़ित थे।

यह भी पढ़े: Chardham Yatra: अक्षय तृतीया के दिन शुरू चारधाम यात्रा, श्रद्धालुओं पर भारी पड़ सकता है मौसम

खाने-पीने के सामान हुआ मंहगा

उत्तरकाशी से 20 किमी आगे जाने सभी लोग आराम करते नजर आ जाते हैं। ऐसे में आसपास के लोग पानी की बोतल 30-50 रुपए और शौचालय के इस्तेमाल के लिए 100 रुपए तक चार्ज कर रहे हैं। 4 दिन में 1.30 लाख से ज्यादा श्रद्धालु पहुंच चुके हैं। पिछले साल शुरुआती 4 दिनों में 52 हजार लोग ही पहुंचे थे।

ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन पर रोक

चार धाम यात्रा में उमड़ रहे श्रद्धालुओं की सुरक्षा को देखते हुए 15 और 16 मई को ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन पर रोक लगाई गई है। ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया शुरू होने के बाद से ही चारधाम के लिए मई माह के सभी ऑफलाइन स्लॉट बुक हो गए। जिसके चलते कई यात्रियों को मई माह में चारधाम यात्रा पर जाने का स्लॉट नहीं मिल पाया। हालांकि ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन होते रहेंगे।

मोबाइल पर रोक की क्या है वजह

उत्तराखंड की मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने चारधाम यात्रा को लेकर कहा कि बहुत ज्यादा संख्या में श्रद्धालु चारधाम यात्रा के लिए आ रहे हैं। इस दौरान कई लोग ऐसे भी पहुंच रहे जो आस्था नहीं बल्कि केवल घूमने के लिए आ रहे हैं और उनकी कुछ हरकतों की वजह से लोगों की आस्था को ठेस पहुंच रही है। कहा कि इस बात का विशेष ध्यान देने की जरूरत है कि यहां आस्था को कोई ठेस न पहुंचाया। धार्मिक भावनाएं आहत नहीं होनी चाहिए। 

यह भी पढ़े: Chardham Yatra 2024: हेली सेवाएं शुरू,भूल से भी न करें ये काम, इन से हो सकता है नुकसान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

मिर्जापुर की सलोनी भाभी नेहा सरगम बनी नेशनल क्रश कौन हैं ट्रेनी IAS ऑफिसर पूजा खेडकर ? जो इस वक़्त विवादों में हैं ? ब्रेड के पैकेट पर लिखी हो ये बातें तो भूलकर भी ना खाएं कौन हैं मिर्जापुर में सलोनी भाभी का किरदार निभाने वाली अभिनेत्री नेहा सरगम फिर युवाओं के दिल पर राज करने आ रही है तृप्ति डिमरी