Uttarkashi Rescue

Uttarkashi Rescue: रैट-होल खनिक नायक के रूप में उभरे जब उन्होंने उत्तराखंड की ध्वस्त सुरंग में फंसे सभी 41 श्रमिकों को सुरक्षित बाहर निकालने के लिए अपने हाथों से ड्रिल किया। उनके चेहरों पर मुस्कुराहट उस तंग सुरंग में खुदाई करने की सारी थकान को छिपा रही थी, जहां सांस लेना भी एक चुनौती बन जाता है।

खनिकों में से एक देवेंद्र ने मीडिया को बताया, “मजदूर हमें देखकर बहुत खुश हुए। उन्होंने हमें गले लगाया और बादाम दिए।” दूसरे ने कहा, “हमने 15 मीटर की दूरी तय की। जब हम वहां पहुंचे और उनकी एक झलक देखी तो हम बहुत खुश हुए।”

ऑपरेशन के अंतिम चरण में एक उच्च तकनीक, आयातित ड्रिलिंग मशीन के खराब हो जाने के बाद बचावकर्मियों ने रैट-होल खनन का सहारा लिया, जो एक प्रतिबंधित अभ्यास है। फिर खनिकों ने फंसे हुए श्रमिकों तक पहुंचने के लिए मैन्युअल रूप से ड्रिलिंग शुरू कर दी।

उनके टीम लीडर ने कहा, “उन्होंने बहुत मेहनत की। हम आश्वस्त थे कि हमें फंसे हुए श्रमिकों को बचाना चाहिए। यह हमारे लिए जीवन में एक बार मिलने वाला अवसर था। उन्होंने उन्हें बाहर निकालने के लिए 24 घंटे बिना रुके काम किया।” उत्तराखंड के मुख्यमंत्री ने सभी श्रमिकों को निकाले जाने के बाद एक प्रेस कॉन्फ़्रेंसु में ‘धन्यवाद’ संदेश में खनिकों की भूमिका का भी जिक्र किया।

उन्होंने कहा, “मशीनें खराब होती रहीं, लेकिन मैं हाथ से खनन करने वालों को धन्यवाद देना चाहता हूं। मैं फंसे हुए श्रमिकों से भी मिला। उन्होंने कहा कि उन्हें सुरंग के अंदर कोई समस्या नहीं हुई।” 12 नवंबर को उत्तरकाशी जिले के सिल्क्यारा में ढही सुरंग में फंसने के 17 दिन बाद आज शाम 41 श्रमिकों को निकाला गया।

दो दिन पहले भारी बरमा ड्रिलिंग मशीन के खराब हो जाने के बाद, चूहे-छेद खनिकों ने टूटे हुए हिस्सों को पुनः प्राप्त किया और शेष हिस्से को अपने हाथों से ड्रिल करना शुरू कर दिया। सुरंग से उनको बचने के कल शाम श्रमिकों तक पहुंच गई और उन्हें स्ट्रेचर पर लिटा कर बाहर निकला गया। इस बीच, क्षैतिज ड्रिलिंग में किसी अन्य बाधा का सामना करने की स्थिति में द्वितीयक विकल्प के रूप में ऊर्ध्वाधर ड्रिलिंग भी चल रही थी।

By Javed

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

मिर्जापुर की सलोनी भाभी नेहा सरगम बनी नेशनल क्रश कौन हैं ट्रेनी IAS ऑफिसर पूजा खेडकर ? जो इस वक़्त विवादों में हैं ? ब्रेड के पैकेट पर लिखी हो ये बातें तो भूलकर भी ना खाएं कौन हैं मिर्जापुर में सलोनी भाभी का किरदार निभाने वाली अभिनेत्री नेहा सरगम फिर युवाओं के दिल पर राज करने आ रही है तृप्ति डिमरी