देवरिया: जिला कारागार में रविवार को जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन, पुलिस अधीक्षक डा० श्रीपति मिश्रा, मुख्य चिकित्साधिकारी डा० आलोक पाण्डेय की गरिमामयी उपस्थिति में इण्डियन मेडिकल एसोशियन उ०प्र० द्वारा स्वास्थ्य शिविर का आयोजन किया गया।

सर्वप्रथम जिलाधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक द्वारा दीप प्रज्वलित कर उक्त स्वास्थ्य शिविर का शुभारम्भ किया गया। स्वास्थ्य शिविर में जनपद गोरखपुर के वरिष्ठ चर्मरोग विशेषज्ञ डा. आर०पी० त्रिपाठी, हृदय रोग विशेषज्ञ डा. अभिषेक अग्रवाल, कैंसर सर्जन डा. विनायक अग्रवाल, फिजिशियन डा. शिवेन्द्र पति त्रिपाठी, जनपद के फिजिशियन डा. संजीव अग्रवाल द्वारा बन्दियों का स्वास्थ्य परीक्षण कर आवश्यक जाँच / उपचार परामर्शित करते हुये, निःशुल्क दवाऐं वितरित की गई।

गोरखपुर सांसद रवि किशन ने अयोध्या के रामलीला में भगवान परशुराम के भूमिका में नजर आये, जानिए रामलीला को लेकर क्या कहा।

उक्त स्वास्थ्य शिविर के माध्यम से चर्म रोग से सम्बन्धित कुल 76 पुरुष एवं महिला, हृदय एवं मेडिसिन रोग से सम्बन्धित कुल 64 पुरुष एवं महिला एवं सर्जरी रोगों से पीड़ित कुल 47 पुरुष व महिला बन्दियों का स्वास्थ्य परीक्षण कर आवश्यक जाँच/उपचार परामर्शित किया गया एवं शिविर में उपलब्ध दवाएं बन्दियों को निःशुल्क वितरित की गई।
देवरिया: जनपद में आगामी 7 दिसंबर तक प्रभावी रहेगा धारा 144 उल्लंघन करने वालों पर होगी कठोर कार्यवाही।

जिलाधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक द्वारा स्वास्थ्य शिविर के माध्यम से बन्दियों के बेहतर जाँच/ उपचार के लिए एवं निःशुल्क दवाओं के वितरण के लिए चिकित्सकगण की टीम को जिला प्रशासन एवं कारागार प्रशासन की तरफ धन्यवाद दिया।
कार्यक्रम के दौरान जेल अधीक्षक राजकुमार, कारागार चिकित्साधिकारी डा. संजय कुमार गुप्ता, डा. हरिपाल विश्वकर्मा, वरिष्ठ उप कारापाल किशोर कुमार दीक्षित, उप कारापाल  वन्दना, उप कारापाल वन्दना त्रिपाठी, फार्मासिस्ट संतोष कुमार शर्मा, रमेश चन्द्र दुबे, अन्य कारागार स्टाफ उपस्थित रहें।

By Javed

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सोनक्षी सिन्हा और ज़ाहिर इक़बाल हुए एक दूजे के लिए, सोनाक्षी ने तश्वीरे शेयर की गौतम अडानी को कितनी सैलरी मिलती है ? जानकर चौक जाओगे लंबे समय तक AC में रहने से सिरदर्द या माइग्रेन क्यों होता है? सिर्फ तेज़ नज़र वालों के लिए है ये चैलेंज इस फोटो में तीन कमिया हैं। सिर्फ 1% लोग ही ढूंढ पाएंगे