LucknowLucknow

Lucknow: उत्तर प्रदेश में शराब माफिया और सिंडिकेट की कमर तोड़ने के बाद डिस्टलरी उद्योग ने रफ्तार पकड़ी ली है। यूपी जल्द ही डिस्टलरी उद्योग का सतक पूरा करने जा रहा है जल्द ही यहाँ डिस्टलरी की संख्या 98 के लगभग हो जायेगा। प्रदेश में अभी तक 18 कंपनियों ने डिस्टलरी में किया निवेश किया है जिसमे तीन में उत्पादन शुरू भी हो गया है। इसके अलावा 15 और कंपनियों को डिस्टलरी लगाने की अनुमति दी मिल गई है।

ये भी पढ़े: Arms Wrestling: देवरिया के लाल सूर्य प्रताप शर्मा वर्ल्ड चेम्पियनशिप में लहराएंगे तिरंगा

उत्तर प्रदेश में योगी सरकार ने पिछले पांच वर्षों में शराब उद्योग से सिंडिकेट को ख़त्म करने के लिए लगातार कोशिश कर रही थी। राज्य सरकार के एक प्रवक्ता के अनुसार शराब निर्यात में देश के 10 प्रमुख राज्यों में यूपी पांचवें से तीसरे नंबर पर पहुंच गया है। जबकि आंध्र प्रदेश और गोवा उससे पीछे छूट गए हैं।

ये भी पढ़े: Bahraichसूखे की स्थिति व नुकसान के आकलन के लिए फसलों का सर्वे कार्य शुरू

आपो बतादें कि डिस्टलरी उद्योग एक ट्रिलियन डॉलर के लक्ष्य को पाने में सहायक होगा। इसमें 60 हजार से अधिक लोगों को रोजगार मिला है। पिछले पांच वर्षों में डिस्टलरी में नौ हजार करोड़ रुपए का निवेश हुआ। अल्कोहल का उत्पादन दोगुने से अधिक हुआ है। इस साल 170 करोड़ बल्क लीटर से अधिक होने की संभावना है। डिस्टलरी उद्योग से आबकारी राजस्व में दोगुने से अधिक का इजाफा यानि 17 हजार करोड़ से बढ़कर 36 हजार करोड़ हुआ है।

By Javed

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

41 की भीड़ में 14 ढूँढना है, सिर्फ जिनियस ही ढूंढ पाएंगे AC का इस्तेमाल करने वाले हो जाओ सावधान, इन बातों का रखे ख्याल घूँघट की आड़ में भाभियों ने हरियाणवी गाने पर मचाया धमाल, वीडियो देख लोग हुए दीवाने सिर्फ 1% लोग ‘बी’ के समुद्र के बीच छिपी 8 को पहचान पायेंगे गरीब बना देंगी फाइनेंस से जुड़ी कुछ आदतें, आज ही बदल डालें