बरहज में बाढ़ के चलते बड़हलगंज से कपरवार तक राम-जानकी मार्ग पर एहतियात के तौर पर भारी वाहनों के आवागमन पर रोक लगा दी गई है। सरयू नदी खतरे के निशान से 1.65 मीटर ऊपर बह रही है। परसिया देवार के 22 टोले बाढ़ के पानी से घिर गए हैं। कटइलवा में छह घरों में बाढ़ का पानी घुस गया है। बाढ़ का पानी लगातार मैदानी क्षेत्रों में फैल रहा है।

File Photo

खतरे के निशान से 1.65 मीटर ऊपर बह रही नदी

सरयू नदी खतरे के निशान 66.50 मीटर से ऊपर 68.15 मीटर पर बह रही है। सरयू नदी खतरे के निशान से 1.65 मीटर ऊपर है। 24 घंटे में जलस्तर में पांच सेंटीमीटर की वृद्धि हुई है। बरहज संवाददाता के अनुसार विशुनपुर देवार में बाढ़ के पानी से घिरे 10 टोलों में लोगों को राहत सामग्री वितरण के लिए राजस्व कर्मी 110 पैकेट राहत सामग्री नाव से लेकर पहुंचे। यहां ग्राम प्रधान ओपी यादव ने राजस्व कर्मियों का सहयोग किया।

ये टोले पानी से घिरे

परसिया देवार का दसरसरिया, राधे यादव, नकीहवा, मोहांव टोला, राजपुर, खरवार टोला, बरमहवा, दुदह टोला, सैलबी टोला, बेचू चौहान टोला, श्यामदेव, धोबीपुरा, भरटोला, चौधरीपूरा, बिचला हरिजन बस्ती, बनिया टोला, संत टोला, अमुरतानी टोला, पांडेय टोला, राजधारी यादव टोला, बलिकरन टोला, रामवृक्ष यादव टोला बाढ़ के पानी से घिर गया है। दसरसरिया कि उत्तर पिच मार्ग पर बाढ़ का पानी ओवरफ्लो कर गया है।

इनके घरों में घुसा बाढ़ का पानी

ग्राम कटइलवा में सरयू नदी का पानी से रामनाथ साहनी, अमर साहनी, हरीशचंद्र चौहान, संतोष,प्रदीप, रामऔतार, संतोष साहनी, सुभग साहनी, रामअवध, बाबूलाल के घरों घुस गया है। भदिला प्रथम गांव में स्वास्थ्य विभाग की टीम ने कैंप लगाकर लोगों को कोविड टीका लगाया और कोरोना जांच के सैंपल लिया। बाढ़ का पानी कपरवार, बेलडाड़, रगरगंज में रामजानकी मार्ग से सट कर बह रहा है। नगर के पटेल नगर, केवटलिया, रगरगंज, तिवारीपुर के मोहल्लों में बाढ़ का पानी बह रहा है। गोरखपुर जिले के गोला तहसील के उपजिलाधिकारी राजेंद्र बहादुर सिंह ने बताया कि बड़हलगंज से रामजानकी मार्ग कवरपार जाने वाले भारी वाहनों के आवागमन पर रोक लगा दी गई है।

हाईफ्लड लेवल से कुछ सेमी की दूरी पर रह गया है जलस्‍तर

File Photo

रुद्रपुर संवाददाता के अनुसार राप्ती और गोर्रा के बढ़ता जलस्तर हाईफ्लड लेवल से कुछ सेमी की दूरी पर रह गया है। गोरखपुर की तरफ से नदियों में पानी तेजी के साथ आ रहा है। दो लाख लोग कभी भी प्रभावित हो सकते हैं। बेलवा जमींदारी बांध के किनारे राप्ती का जलस्तर लगातार दबाव बना रहा है। राप्ती खतरे के निशान से एक मीटर 45 सेमी और गोर्रा खतरे के निशान से डेढ़ मीटर ऊपर बह रही है।

नदी के तटवर्ती गांवों पर नदियों का बढ़ता जा रहा दबाव

जलस्तर बढ़ने से बेलवा जमींदारी बांध, तिघरा-मराक्षी, नरायनपुर औराई, बहोरादलपतपुर, ईश्वरपुरा, करनपुरा, मांझानरायन, बनकटी, भेड़ी,गाजन -डहरौली, सिलहटा सहित एक दर्जन नदी के तटवर्ती गांवों पर नदियों का लगातार दबाव बढ़ता जा रहा है। बढ़ते जलस्तर के कारण क्षेत्र के तिघरा-मराक्षी तटबंध, रतनपुरा, पिड़रा-भुसउल, जिगिनिहवां समेत एक दर्जन से अधिक स्थानों पर रिसाव हो रहा है, जो दोआबा के लिए खतरे का संकेत दे रहा है। ग्रामीणों का कहना है रिसाव कुछ देर रूकने के बाद फिर शुरू हो जा रहा है। एसडीएम संजीव कुमार उपाध्याय ने तिघरा-मराक्षी तटबंध सहित अन्य तटबंधों का जायजा लिया।

24 घंटे में सरयू नदी का बढ़ा छह सेमी जलस्तर

पहाड़ी व मैदानी क्षेत्रों में हो रही लगातार बारिश के चलते नदियों के जलस्तर में लगातार उफान है। भागलपुर में सरयू नदी खतरे के निशान से एक मीटर छह सेमी ऊपर बह रही है। 24 घंटे में छह सेमी जलस्तर बढ़ा है। भागलपुर से पिंडी जाने वाली सड़क के जिरासो गांव के समीप ओवरफ्लो करने लगा है। लार रोड संवाददाता के अनुसार सरयू का जलस्तर बढ़ने से देवरहा बाबा आश्रम में भी पानी घुस गया है। पशुओं को चबूतरे पर रखा गया है। चारा का संकट उत्पन्न हो गया है। आश्रम के महंथ श्याम सुंदर दास ने प्रशासन से सहायता की मांग की है।

जिला पंचायत अध्यक्ष ने बाढ़ प्रभावित गांवों को देखा

जिला पंचायत अध्यक्ष गिरीश चंद्र तिवारी ने बाढ़ प्रभावित गांव कटइलवा को देखा। लोगों से बाढ़ और कटान से स्थिति की जानकारी ली। उपजिलाधिकारी से गांव में नाव लगाने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि प्रभावित लोगों की हर प्रकार की सहायता की जाएगी। इस दौरान गिरेंद्र प्रताप यादव, भूपेंद्र सिंह, रामजोखन निषाद, अंगद तिवारी मौजूद रहे।

By Javed

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

15 अगस्त को रिलीज नहीं होगी पुष्पा 2, जानिए क्या है वजह एक पिता का परिवार में क्या दर्ज़ा होता है, आज आपको बताते हैं ! हिसार के महिला और हरियाणा ट्रैफिक पुलिस हवलदार के मजेदार चुटकुले जब सलमान की बहन ने सोनाक्षी को भाभी कहा था मजेदार चुटकुले: पुराने ज़माने में औरतें अपने पति का नाम नहीं लेती थीं…