Kushinagar: जिले के खड्डा विधानसभा इलाके से होकर बहने वाली नारायणी नदी का जलस्तर इन दिनों कम है। महज कुछ महीने बाद आने वाली बाढ़ से की विभीषिका से नदी पार महदेवा गाँव ग्रामीण सहमे हुए है। नारायणी का रुख गाव की तरफ आता देख ग्रामीणों ने सभी के दरवाजों पर बंधा बंधवाने की गुहार लगाई है।

ये भी पढ़िए: देवरिया: सौतेले भाई ने 2 सगे भाइयों की चाकू से गाला रेतकर की हत्या, आरोपी राजू गिरफ्तार

नेताओ और अधिकारियों के झूठे आश्वाशनो के कारण ग्रामीणों का सरकार से भी उम्मीद खत्म हो गयी हैं। उपजिलाधिकारी खड्डा ने अधिकारीओ से बांधे बचाने के लिए निर्देश दिया हैं।

नेपाल के वाल्मीकिनगर बैराज से निकलने वाली नारायणी नदी बाढ़ के समय कुशीनगर में जबरदस्त कहर बर्फबारी है। खड्डा इलाके में स्थित पनियहवा पुल के पूरब बसे गाँव महदेवा के लोग नदी के रुख को देख काफी परेशान हैं। पिछले चार सालों से नदी का रुख महादेवा गाँव के खेतों की तरफ हुआ तभी से ग्रामीण अधिकारीओ और नेटवक चक्कर लगाने लगे। किसी ने उनकी मांगों पर गम्भीरता नही दिखाई। किसानों के खेत नदी ने अपने अंदर विलीन कर लिया।

ये भी पढ़िए: बरहज पुलिस ने एक पिकप से 7 राशि गोवंशीय पशु के साथ अभियुक्त को किया गिरफ्तार

अब नदी का रुख महदेवा गाँव की तरफ हो गया हैं। हालांकि इन दिनों नदी का जलस्तर कॉफी कम हैं पर सरकार और नेता आँखे मूंदे हुए है। लेकिन जब बाढ़ अपने चरम पर होगी तो ग्रामीण नदी के कटान और पानी से बेघर हो जाते हैं । ऊँचे सड़क पर खानाबदोश की जिंदगी बिताने को विवश ग्रामीणों को राहत सामग्री बाट नेता फ़ोटो खिंचवाते है । विभागीय अधिकारी गाँव बचाने के नाम पर करोङो का खेल कर जाते।

ये भी पढ़िए: कब्रिस्तान में अचानक जिन्दा हो उठी लाश, ताबूत खटखटाकर बोली मैं जिन्दा

By Javed

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सोनक्षी सिन्हा और ज़ाहिर इक़बाल हुए एक दूजे के लिए, सोनाक्षी ने तश्वीरे शेयर की गौतम अडानी को कितनी सैलरी मिलती है ? जानकर चौक जाओगे लंबे समय तक AC में रहने से सिरदर्द या माइग्रेन क्यों होता है? सिर्फ तेज़ नज़र वालों के लिए है ये चैलेंज इस फोटो में तीन कमिया हैं। सिर्फ 1% लोग ही ढूंढ पाएंगे