Tubeless Tyreगर्मियों में Tubeless Tyre क्यों सही होता है, लोगों के जान के खतरे से खास कनेक्शन

आज के समय में कुछ एक मॉडल को छोड़कर सभी गाड़ियों में ट्यूबलेस टायर (Tubeless Tyre) आने लगा है। हालाँकि कुछ साल पहले तक लोगों को ट्यूबलेस टायर के बारे बहुत काम लोगों को पता था। आपको जानकर हैरानी होगी की ट्यूब वाले टायर की तुलना में ट्यूबलेस टायर ज्यादा बेहतर होता है। अगर आप भी ट्यूब वाले टायर का इस्तेमाल करते है तो आज मैं आपको ट्यूबलेस टायर के खूबियों के बारे में अच्छी जानकरी दूंगा।

यह भी पढ़ें:Tattoo: टैटू बनवाने से पहले जान लें ये महत्वपूर्ण बातें, स्किन की आवाज

ट्यूबलेस टायर को बिना ट्यूब के टायर भी कहा जाता है। एक तरह से कहा जा सकता है ट्यूब टायर के साथ इनबिल्ट होता है। इसलिए इसका वजन काम होता है। ट्यूबलेस टायर वाल्व रिम से ही जुड़ा रहता है। जिसकी वजह से इसमें हवा धीरे-धीरे भरी जाती है इसलिए पंक्चर होने की स्थिति में इसमें से हवा भी धीरे-धीरे निकालता है। सेफ्टी के मामला में ये सबसे बेहतर होता है।

सबसे खास बात ये है कि टैब वाले टायर कि तुलना में ट्यूबलेस टायर (Tubeless Tyre) हल्के होते है जिनकी वजह से राइडिंग क्वालिटी अच्छी होती है और माइलेज भी अच्छा मिलता है। इतना ही नहीं ट्यूब वाले टायर जल्दी गर्म भी हो जाता है। ट्यूबलेस टायर का पंचर बनाने में आसानी होती है। ये काम आप भी आसानी से कर सकते है।

इसके अलावा ट्यूब वाले टायर जब पंचर होता है गाड़ी का बैलेंस बिगड़ जाता है जिससे दुर्घटना होने कि सम्भावना बढ़ जाती है। जबकि युबलेस टायर में ऐसा नहीं होता है। ट्यूबलेस टायर जब पंचर होता है तो इसमें से हवा धीरे-धीरे निकालता है जिससे गाड़ी का बैलेंस नहीं बिगड़ता है और दुर्घटना से बच सकते है।

By Javed

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

मिर्जापुर की सलोनी भाभी नेहा सरगम बनी नेशनल क्रश कौन हैं ट्रेनी IAS ऑफिसर पूजा खेडकर ? जो इस वक़्त विवादों में हैं ? ब्रेड के पैकेट पर लिखी हो ये बातें तो भूलकर भी ना खाएं कौन हैं मिर्जापुर में सलोनी भाभी का किरदार निभाने वाली अभिनेत्री नेहा सरगम फिर युवाओं के दिल पर राज करने आ रही है तृप्ति डिमरी