Uttarakhand News: Gaurikund में भारी बारिश के कारण आई बाढ़ और भूस्खलन के बाद करीब 12 लोग MissingUttarakhand News: Gaurikund में भारी बारिश के कारण आई बाढ़ और भूस्खलन के बाद करीब 12 लोग Missing

Uttarakhand News: देश में मानसून (Monsoon) की बारिश (Rain) ने कई राज्यों में भयानक तबाही मचाई है। वहीं आज भारतीय मौसम विभाग (IMD) ने भी देश की राजधानी दिल्ली (Delhi) में बारिश को लेकर अलर्ट (Alart) जारी किया था। लेकिन इस बीच देवभूमि उत्तराखण्ड (Uttarakhand) से चिंता बढ़ाने वाली खबर सामने आ रही है, जहां तेज बारिश के कारण आई बाढ़ (Flood) और भूस्खलन (landslide) के बाद 12 लोग लापता (missing) हो गए।

यह भी पढ़ें:- Modi Surname Case में राहुल गांधी को बड़ी राहत, Supreme Court ने लिया ये फैसला

उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जिले (Rudraprayag district) में केदारनाथ यात्रा मार्ग (Kedarnath Yatra route) पर गौरीकुंड (Gaurikund) में भारी बारिश के कारण आई बाढ़ और भूस्खलन के बाद करीब 12 लोग लापता हो गए। रुद्रप्रयाग जिला आपदा प्रबंधन कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार, बृहस्पतिवार मध्य रात्रि गौरीकुंड से कुछ मीटर दूर डाट पुलिया में तेज बारिश के दौरान एक बरसाती नाले में आई बाढ़ और भूस्खलन के बाद तीन दुकानें बह गईं, जिससे उसमे रह रहे लोग भी लापता हो गए।

https://youtu.be/BdqAeFusBq0

रुद्रप्रयाग जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी नंदन सिंह रजवार ने बताया कि बृहस्पतिवार को मध्य रात्रि के बाद तेज बारिश के दौरान गौरीकुंड से कुछ मीटर दूर डाट पुलिया में आई बाढ़ और भूस्खलन के कारण मलबे के साथ तीन दुकानें बह गईं, जिससे उसमें रह रहे तीन लोगों की मौत हो गई। हादसे में बही दो दुकानों और एक खोखे में कुल 19 लोग रह रहे थे, जिनमें से 16 लापता हैं और उनकी तलाश जारी है। उन्होंने बताया कि सूचना मिलने पर रात में ही राहत एवं बचाव कार्य शुरू कर दिया गया था और तीन लोगों के शव घटनास्थल से करीब 50 मीटर नीचे मंदाकिनी नदी से बरामद किए गए।

यह भी पढ़ें:- kolkata violence: पुलिस ने स्कूल के सामने दागे आंसू गैस के गोले, कई बच्चे बीमार, Teachers ने लगाए गंभीर आरोप

घटनास्थल पर मौजूद पुलिस क्षेत्राधिकारी विमल रावत ने कहा कि भारी बारिश के कारण राहत एवं बचाव कार्य में दिक्कतें आ रही हैं। घटनास्थल के आसपास पहाड़ से रुक-रुक कर पत्थर गिर रहे हैं। इस बीच, मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने राज्य आपदा नियंत्रण कक्ष पहुंचकर गौरीकुंड हादसे के संबंध में अधिकारियों से जानकारी ली और राहत एवं बचाव कार्य में तेजी लाने का निर्देश दिया। उन्होंने अधिकारियों से गौरीकुंड क्षेत्र में जल्द से जल्द हर संभव मदद पहुंचाने के लिए भी कहा। मुख्यमंत्री ने भूस्खलन के लिहाज से संवेदनशील इलाकों के आसपास बनी इमारतों एवं कच्चे मकानों में रह रहे लोगों को भी सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने के निर्देश दिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

मिर्जापुर की सलोनी भाभी नेहा सरगम बनी नेशनल क्रश कौन हैं ट्रेनी IAS ऑफिसर पूजा खेडकर ? जो इस वक़्त विवादों में हैं ? ब्रेड के पैकेट पर लिखी हो ये बातें तो भूलकर भी ना खाएं कौन हैं मिर्जापुर में सलोनी भाभी का किरदार निभाने वाली अभिनेत्री नेहा सरगम फिर युवाओं के दिल पर राज करने आ रही है तृप्ति डिमरी