जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन ने जनपद के कुछ क्षेत्रों में गेहूं की खड़ी फसल में आग लगने की छिटपुट घटनाओं के बीच अग्निशमन केंद्र भटवलिया का निरीक्षण किया और आगजनी की घटनाओं पर त्वरित कार्रवाई करने के संबंध में आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि सामुदायिक भागीदारी और विभिन्न विभागों के समंवित प्रयास से आग लगने की घटना एवं उससे होने वाली क्षति को कम किया जा सकता है। साथ ही सभी प्रभावित किसानों को शासन द्वारा अनुमन्य राहत 24 घन्टे के भीतर उपलब्ध कराने का निर्देश दिया।

ये भी पढ़िए: हत्या करने वाले 2 अभियुक्तों को आजीवन कारावास व 10-10 हजार रुपये का अर्थदण्ड

जिलाधिकारी ने बताया कि फसल गेहूं की फसल की कटाई के दौरान स्ट्रॉ-रीपर मशीन का प्रयोग करने पर 30 अप्रैल तक रोक लगा दी गई है। इसके द्वारा फसल कटाई के दौरान निकलने वाली चिंगारी से कुछ जगहों पर आग लगने की घटना सामने आई है। यदि जनपद में कहीं पर भी फसल कटाई में स्ट्रॉ-रीपर मशीन का प्रयोग पाया जाता है तो संबंधित एसडीएम और सीओ उस मशीन को जब्त कर लेंगे। विद्युत विभाग को खेतों के बीच से जा रहे लटकते हुए हाईटेंशन तारों को चिन्हित कर समयबद्ध तरीके से दुरुस्त करने का निर्देश दे दिया गया है।

ये भी पढ़िए: पत्रकारों का चीर हरण करने वाला इंस्पेक्टर निलंबित, लाइन हाजिर।

जिलाधिकारी ने आग लगने की घटनाओं पर अग्निशमन विभाग के रिस्पांस टाइम को और त्वरित बनाने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि आग लगने के स्थल पर पहुंचना मुश्किल कार्य होता है। कई बार घटनास्थल काफी दूर एवं रास्ते सँकरे होते हैं। ऐसे में जीपीएस तकनीकी का प्रयोग करके घटनास्थल पर कम समय में पहुंचा जा सकता है।।

जिलाधिकारी ने खेतों में लगी आग को नियंत्रित करने स्थानीय लोगों से प्रशासन के साथ सक्रिय भूमिका निभाने का अनुरोध किया। जिला आपदा मोचन प्राधिकरण इसके लिए जागरूकता अभियान चलाएगा और प्रगतिशील किसानों के सहयोग से स्थानीय स्तर पर क्षमता निर्माण करेगा।

ये भी पढ़िए: यूपी में छात्रों को टेबलेट और स्मार्टफोन का वितरण जल्द शुरू होगा

जिलाधिकारी ने ग्राम पंचायतों को पोर्टेबल पाइप उपलब्ध कराने के निर्देश दिए, जिसके प्रयोग से आग लगने की घटना को प्रारंभ में ही नियंत्रित कर लिया जाए। उन्होंने अग्निशमन विभाग को हाई अलर्ट पर रहने का निर्देश दिया और कहा कि अग्निशमन विभाग के कर्मचारियों का अवकाश बिना सक्षम प्राधिकारी की अनुमति के स्वीकृत न किया जाए।

जिलाधिकारी ने कहा कि जिन किसानों की फसलें आग में जल गई हैं उन्हें 24 घन्टे के भीतर शासन द्वारा अनुमन्य सहायता उपलब्ध कराई जाए। उपजिलाधिकारी रुद्रपुर संजीव उपाध्याय द्वारा बताया गया कि तहसील के 10 ग्राम पंचायतों में 508 किसानों का 37 हेक्टेयर रकबा आगजनी से प्रभावित हुआ है। सदर एसडीएम सौरभ सिंह ने बताया कि तहसील के 2 ग्राम पंचायतों में 16 किसानों की फसल प्रभावित हुई है।

अग्निशमन केंद्र प्रभारी/सीओ विनय कुमार यादव ने बताया कि जनपद में 7 अग्निशमन वाहन है जिनमें से एक-एक वाहन तरकुलवा, रुद्रपुर सलेमपुर और भाटपार रानी में है। तीन अग्निशमन वाहन मुख्यालय में है, जिनके माध्यम से गौरी बाजार देवरिया और बैतालपुर में आगजनी की घटनाओं को नियंत्रित किया जाता है। इस दौरान एडीएम (वित्त एवं राजस्व) नागेंद्र कुमार सिंह, सुरेंद्र प्रसाद राय सहित विभिन्न अधिकारी मौजूद थे|

By Javed

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

41 की भीड़ में 14 ढूँढना है, सिर्फ जिनियस ही ढूंढ पाएंगे AC का इस्तेमाल करने वाले हो जाओ सावधान, इन बातों का रखे ख्याल घूँघट की आड़ में भाभियों ने हरियाणवी गाने पर मचाया धमाल, वीडियो देख लोग हुए दीवाने सिर्फ 1% लोग ‘बी’ के समुद्र के बीच छिपी 8 को पहचान पायेंगे गरीब बना देंगी फाइनेंस से जुड़ी कुछ आदतें, आज ही बदल डालें