Murder MistryMurder Mistry

Murder Mistry: आपने ‘दूध का कर्ज’ फिल्म का एक गाना सुना होगा “सजा प्यार की मौत से काम नहीं, मगर इस सजा का हमें गम नहीं ” एक ऐसा ही मामला उत्तर प्रदेश के कुशीनगर जिले से आई हैं। जहाँ एक प्रेमी को मोहब्बत करना भारी पड़ गया। प्रेमी को मोहब्बत करने का इनाम में मौत की सजा मिली। प्रेमिका के परिजनों ने प्रेमी को मौत की सजा ऐसी दी कि उसकी लाश को देखकर हर कोई हैरान हो जायेगा। इस हत्या की ख़बर चारो तरफ चर्चा का विषय बना हुआ हैं। पुलिस ने इस रहस्यमई क़त्ल के गुत्थी को सुलझा लिया हैं। इस मामले में पुलिस ने तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

Barabanki : बयान बदलने के लिए दबंगों ने रेप पीड़िता और उसके परिवार को पीटा

पूरी घटना उत्तर प्रदेश के कुशीनगर जिले के कुबेरस्थान क्षेत्र के सखवनिया बुजुर्ग टोला बढ़याछापर का है। बढ़याछापर का रहने वाला 22 साल का नूर आलम गांव के ही के ही एक लड़की से प्रेम करता था। मिली जानकारी के मुताबिक पिछले दो साल से दोनों के बीच प्रेम प्रसंग चलता आ रहा था। युवक अपनी प्रेमिका से बहुत प्यार करता था। नूर आलम अपनी प्रेमिका से शादी करके अपनी पूरी जिंदगी उसके साथ बिताना चाहता था। लेकिन वो शादी करता उससे पहले ही उसके साथ ऐसी घटना घटी जिसको सुनने के बाद हर कोई हैरान हो गया। घटना पुलिस के लिए पहेली बन गई।

दरअसल, बीते 27 अक्टूबर को कस्य थाना क्षेत्र में एक युवक की जली हुए लाश मिली थी। जिसे देखने के बाद ग्रामीणों ने पुलिस को सूचना दी। सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया हैं। साथ ही मामले की छानबीन भी शुरू कर दी। हत्या के पांचवे दिन पुलिस ने हत्या की गुत्थी सुलझा लिया हैं साथ ही हत्या के कारणों का भी खुलासा किया हैं।

Factory Fire: नरेला के फुटवियर कंपनी में लगी आग, 2 लोगों की मौत

कुशीनगर के एसएसपी रितेश कुमार सिंह ने बताया कि नूर सलाम का कलामुद्दीन की लड़की से प्रेम-प्रसंग चल रहा था। लड़की के पिता ने नूर आलम को अपनी बेटी से दूर रहने की हिदायत भी दे चुका था। मगर नूर आलम का प्यार परवान चढ़ चूका था। वह प्रेमिका से शादी करने के लिए कुछ भी करने को तैयार था। इसके लिए लड़की के पिता कलामुद्दीन ने नूर आलम की हत्या करवाने का प्लान बनाया। इसके लिए उसने 50 हजार रुपये सरफुद्दीन अंसारी को दिए।

सरफुद्दीन अंसारी ने नूर आलम का कॉल कर अज्ञात जगह पर बुलाया। इसके बाद सरफुद्दीन अंसारी दो लोगों के साथ मिलकर दाब (धारदार हथिया ) से नूर आलम की निर्मम हत्या कर दी। मृतक का पहचना छुपाने के लिए उसके लाश को जला दिया। वहीं, पुलिस ने इस मामले में सरफुद्दीन अंसारी पुत्र इंताफ अंसारी, समसुद्दीन पुत्र मुंशी अंसारी व कलामुद्दीन अंसारी पुत्र मुंशी अंसारी सेखवनिया टोला बढ़या छापर के रहने वाले आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

By Javed

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

41 की भीड़ में 14 ढूँढना है, सिर्फ जिनियस ही ढूंढ पाएंगे AC का इस्तेमाल करने वाले हो जाओ सावधान, इन बातों का रखे ख्याल घूँघट की आड़ में भाभियों ने हरियाणवी गाने पर मचाया धमाल, वीडियो देख लोग हुए दीवाने सिर्फ 1% लोग ‘बी’ के समुद्र के बीच छिपी 8 को पहचान पायेंगे गरीब बना देंगी फाइनेंस से जुड़ी कुछ आदतें, आज ही बदल डालें