नोएडा: कोविड से बचाव के लिए सतर्कता, कोविड प्रोटोकाल और टीकाकरण बेहद जरूरी है। अभी समय नहीं आया है कि कोविड को लेकर लापरवाही बरती जाए। चंद लोगों की लापरवाही कोरोना संक्रमण की चेन बढ़ाने के लिए ही काफी होती है। अभी सावधान हो जाने पर इस चेन को बढ़ने से रोका जा सकता है। इसलिए बच्चे, बूढ़े और जवान सभी टीकाकरण अवश्य कराएं और जनपद में कोरोना को रोकने में अपना योगदान दें। यह बात जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डा. सुनील दोहरे ने कही है। उन्होंने कहा स्वास्थ्य विभाग के पास पर्याप्त मात्रा में कोविड की वैक्सीन उपलब्ध है और सभी निर्धारित टीकाकरण केन्द्रों पर टीके लगाएं जा रहे हैं।

ये भी पढ़िए: देवरिया: जानिए क्या है यूपी मिशन शक्ति 3.0

डा. दोहरे ने बताया जनपद में कोविड टीकाकरण कार्यक्रम नियमित रूप से चल रहा है। अभी 12 से 14 वर्ष की आयुवर्ग के बच्चों का टीकाकरण अपेक्षाकृत कम हुआ है, इसलिए इस उम्र के बच्चों के अभिभावकों और स्कूल प्रशासन को चाहिए कि वह आगे बढ़ कर बच्चों का टीकाकरण कराएं और उन्हें कोरोना संक्रमण से सुरक्षित बनाएं। जिन बच्चों को कोरोना हुआ है उनमें काफी संख्या में ऐसे बच्चे हैं जिन्होंने कोरोना से बचाव का टीका नहीं लगवाया है। उन्होंने कहा स्वास्थ्य विभाग अपना काम कर रहा है लेकिन टीकाकरण में अभिभावकों को भी अपनी जिम्मेदारी निभानी होगी। उन्होंने अभिभावकों से अपील की है कि वह अपने बच्चों को कोविडरोधी टीका लगवाएं और कोरोना से सुरक्षित बनाएं। बच्चों का टीका सुरक्षित और भरोसेमंद है।

ये भी पढ़िए: देवरिया: बस और बोलेरो की टक्कर से 6 की मौत, तिलक समारोह से लौटते समय हुए हादसा

उन्होंने कहा कोविड के मामले बढ़ रहे हैं, सतर्कता जरूरी है। कोविड प्रोटोकॉल का पालन करें। घर से निकलने पर मॉस्क का प्रयोग अवश्य करें और सार्वजनिक स्थानों पर दो गज की सुर‌क्षित दूरी का भी पालन करें। स्कूलों के लिए प्रशासन की ओर से गाइड लाइन जारी की जा चुकी हैं, सभी उसका पालन करें। अनावश्यक किसी चीज को छुएं नहीं, अपने हाथ नियमित साबुन पानी से धोएं। जिन बच्चों में कोविड के लक्षणनजर आ रहे हों वह स्कूल न जाएं, खुद भी सुरक्षित रहें, औरों को भी सुरक्षित रखने में सहयोग करें। शादी का सीजन होने के चलते अतिरिक्त सावधानी बरतने की जरूरत है। सर्दी, जुकाम, बुखार से पीड़ित लोग नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र पर चिकित्सक से परामर्श लें और कोरोना जांच कराएं।

कोविड टीकाकरण कार्यक्रम के प्रभारी डा. स्मिथ यादव ने बताया 12 से 14 वर्ष की आयु वर्ग के बच्चों का 50 प्रतिशत टीकाकरण हुआ है। इसके लिए स्कूलों और अभिभावकों के सहयोग की जरूरत है। स्कूलों के सहयोग से टीकाकरण की रफ्तार बढ़ सकती है। उन्होंने बताया इस आयुवर्ग के 34828 बच्चों को प्रथम डोज लगी है। यह लक्ष्य का पचास प्रतिशत है। उन्होंने बताया 18 से 44 वर्ष के युवावर्ग में टीकाकरण को लेकर सबसे ज्यादा उत्साह देखा गया। इस आयु वर्ग में 15.43 लाख ने पहली और 11.79 लाख लोगों ने दूसरी डोज लगवायी है। लक्ष्य के सापेक्ष यह क्रमश 143 प्रतिशत और 109 प्रतिशत है। इसी तरह 45 से 59 आयुवर्ग के लोगों में भी अच्छा उत्साह दिखा है।

21-22 अप्रैल को मेगा टीकाकरण अभियान

डा. स्मिथ यादव ने बताया स्वास्थ्य विभाग बच्चों का टीकाकरण की रफ्तार बढ़ाने के लिए लगातार प्रयासरत है। स्कूलों में टीकाकरण शिविर लगाकर ज्यादा से ज्यादा बच्चों का टीकाकरण कराने का प्रयास किया जा रहा है। इसी कड़ी में 21 और 22 अप्रैल को स्कूलों में मेगा टीकाकरण अभियान चलाया जाएगा। इस बार जनपद के गांवों में भी शिविर लगा कर बच्चों का टीकाकरण किया जाएगा। उन्होंने अभिभावकों से अपील की है कि वह अधिक से अधिक संख्या में पहुंचकर अपने बच्चों को टीका लगवाएं और कोविड से सुरक्षित बनाएं।

By Javed

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सोनक्षी सिन्हा और ज़ाहिर इक़बाल हुए एक दूजे के लिए, सोनाक्षी ने तश्वीरे शेयर की गौतम अडानी को कितनी सैलरी मिलती है ? जानकर चौक जाओगे लंबे समय तक AC में रहने से सिरदर्द या माइग्रेन क्यों होता है? सिर्फ तेज़ नज़र वालों के लिए है ये चैलेंज इस फोटो में तीन कमिया हैं। सिर्फ 1% लोग ही ढूंढ पाएंगे