Salt for Health

Salt for Health: विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, हृदय संबंधी बीमारियाँ विश्व स्तर पर मृत्यु का प्रमुख कारण हैं। पिछले कुछ सालों में युवाओं और वयस्कों दोनों में हृदय रोगों में तेजी से वृद्धि देखी गई है। बहुत ऐसे लोग हैं जो खाने में ज्यादा नमक खाना पसंद करते हैं तो कुछ कम नमक पसंद करते हैं। आपको जानकर हैरानी होगी कि ज्यादा नमक खाना आपके दिल के साथ-साथ के स्वस्थ्य पर असर करती हैं।

सामान्य जोखिम कारकों में शारीरिक गतिविधि की कमी, अत्यधिक प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों पर निर्भरता, धूम्रपान, अस्वास्थ्यकर वजन, मधुमेह और अनियंत्रित उच्च रक्तचाप शामिल हैं। आप जो खाना खाते हैं उसका असर आपके दिल पर भी कई तरह से पड़ता है।

यह भी पढ़े: Benefits of Sattu: शरीर में ठंडक से लेकर वजन घटाने में असरदार, जानें गर्मियों में सत्तू पीने के फायदे

बहुत से लोग नहीं जानते कि नियमित रूप से नमक का ज्यादा सेवन आपके दिल के साथ-साथ सभी स्वास्थ्य पर कई प्रतिकूल प्रभाव डाल सकता है। सोडियम नमक का प्रमुख खनिज है जो रक्तप्रवाह में तरल पदार्थ की सही मात्रा बनाए रखने में मदद करता है। सोडियम का बहुत अधिक सेवन आपके रक्तप्रवाह में जल प्रतिधारण में योगदान देता है। इससे रक्तचाप बढ़ सकता है, आपका वजन बढ़ सकता है और द्रव निर्माण, और सूजन बढ़ सकता है। इससे आपके दिल की कार्यप्रणाली बाधित होती है और आपकी किडनी पर भी इसका सीधा असर पड़ता है। तो आईये इस लेख के माध्यम से जानते हैं कि नमक आपके स्वस्थ्य पर कैसे असर डालता हैं और आपको दिन में कितना नमक खाना चाहिए

आपको कितना नमक खाना चाहिए
अमेरिकन हेल्थ एसोसिएशन एक दिन में 2,300 मिलीग्राम से अधिक सोडियम (5 ग्राम नमक) नहीं लेने की सलाह देता है। उच्च रक्तचाप वाले लोगों के लिए आदर्श सोडियम सीमा 1,500 मिलीग्राम प्रति दिन है।

सोडियम का सेवन कैसे कम करें

खाद्य लेबल पढ़ें
अधिकांश डिब्बाबंद खाद्य पदार्थ गुप्त नमक सामग्री से भरे होते हैं। हो सकता है कि आप अनजाने में इन खाद्य पदार्थों के माध्यम से उच्च मात्रा में सोडियम का सेवन कर रहे हों। अधिकांश डिब्बाबंद खाद्य पदार्थ भी सोडियम से भरपूर होते हैं। इसलिए लेबल को ध्यान से पढ़ें और सोडियम सामग्री की जांच करें।

कम सोडियम वाले खाद्य पदार्थ चुनें
ताजे खाद्य पदार्थ जैसे फल, सब्जियां, डेयरी, अंडे, नट और बीज और साबुत अनाज में सोडियम कम होता है। अपने आहार में ऐसे संपूर्ण खाद्य पदार्थों को शामिल करने का प्रयास करें जो अत्यधिक पैक किए गए और प्रसंस्कृत हों।

जड़ी-बूटियों और विभिन्न मसालों का प्रयोग करें
आप घर पर जो खाना बनाते हैं उसमें कम नमक डालें। स्वाद बढ़ाने के लिए इसकी जगह जड़ी-बूटियों और मसालों का इस्तेमाल करें। यह सोडियम की मात्रा बढ़ाए बिना भोजन का स्वाद बढ़ा देगा।

घर का बना खाना चुनें
पैक्ड फूड की तरह फास्ट फूड भी नमक से भरपूर होते हैं। सिर्फ नमक ही नहीं, फास्ट फूड भी न्यूनतम या बिना पोषण वाले अस्वास्थ्यकर वसा से भरे होते हैं। बहुत अधिक सेवन आपके संपूर्ण स्वास्थ्य को ख़तरे में डाल सकता है। इसलिए कोशिश करें कि ज्यादा से ज्यादा घर का बना खाना खाएं।

पोटेशियम युक्त खाद्य पदार्थों को आहार में शामिल करें
पोटेशियम सोडियम के नकारात्मक प्रभावों से लड़ने में मदद कर सकता है। यह प्राकृतिक रूप से रक्तचाप को कम करने में भी मदद कर सकता है। कुछ पोटेशियम युक्त खाद्य पदार्थ जिन्हें आप अपने आहार में शामिल कर सकते हैं उनमें केला, आलू, पालक, तरबूज और चुकंदर शामिल हैं।

यह भी पढ़े: Milk Benefits: रोजाना दूध पीने से क्या होते है फायदे? दूध से एलर्जी वाले लोग अपनाये ये उपाय

अध्ययनों से यह भी पता चला है कि उच्च सोडियम सेवन उच्च रक्तचाप और दिल के दौरे, स्ट्रोक और दिल की विफलता के बढ़ते जोखिम से जुड़ा हुआ है। इसलिए, अपने समग्र नमक सेवन को कम करने से हृदय संबंधी स्थितियों के विकास के जोखिम को कम करने में मदद मिल सकती है। यह उन लोगों के लिए भी बेहद फायदेमंद है जिन्हें पहले से हृदय संबंधी कोई बीमारी है।

नोट: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने डॉक्टर से परामर्श लें। “सच्चाई भारत की” इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

By Javed

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

मिर्जापुर की सलोनी भाभी नेहा सरगम बनी नेशनल क्रश कौन हैं ट्रेनी IAS ऑफिसर पूजा खेडकर ? जो इस वक़्त विवादों में हैं ? ब्रेड के पैकेट पर लिखी हो ये बातें तो भूलकर भी ना खाएं कौन हैं मिर्जापुर में सलोनी भाभी का किरदार निभाने वाली अभिनेत्री नेहा सरगम फिर युवाओं के दिल पर राज करने आ रही है तृप्ति डिमरी